गुरुवार, 22 अगस्त 2019

चिदंबरम को किया गया गिरफ्तार

          रात 8:26 बजे चिदंबरम ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस,
          10:16 बजे सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया

12 वकीलों की फौज भी सुप्रीम कोर्ट में नहीं दिला पाई राहत सुनवाई कल

27 घंटे बाद प्रकट हुए पूर्व वित्त मंत्री बोले मैंने कोई अपराध नहीं किया

गिरफ्तारी से बचने के लिए करीब 27 घंटे तक अंडरग्राउंड रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम बुधवार रात करीब 8:26 बजे प्रकट हुए। 
वे कांग्रेस दफ्तर में प्रेस कॉन्फ्रेंस करने पहुंचे। उन्होंने कहा कि मैंने और मेरे बेटे ने कोई अपराध नहीं किया है। करीब 10 मिनट तक यहां रहने के बाद चिदंबरम अपने जोर बाग स्थित घर चले गए। उनके जाने के बाद सीबीआई और ईडी की टीमें भी कांग्रेस दफ्तर पहुंची। यहां से ईडी और सीबीआई के अधिकारी चिदंबरम के घर पहुंच गए। इसके बाद सीबीआई और ईडी की टीम उनके घर भी पहुंची। 
       करीब 40 मिनट तक उनसे पूछताछ का सिलसिला चला। रात करीब 9:45 बजे चिदंबरम को हिरासत में ले लिया गया। घर से ले जाने के दौरान उनके समर्थकों ने हंगामा किया। कुछ समर्थक सीबीआई की गाड़ी पर भी चढ़ गए। रात 10:16 बजे चिदंबरम को गिरफ्तार कर लिया गया। सीबीआई ने गिरफ्तारी के लिए पहले से वारंट ले रखा था। 


 हिरासत में लेने के लिए ईडी डेट से घुसी, सीबीआई                          दीवार फांदकर


 राहुल बोले- चिदंबरम के चरित्र हनन के लिए   सीबीआई -ईडी का इस्तेमाल

` चिदंबरम का चरित्र हनन करने के लिए मोदी सरकार ईडी, सीबीआई और मीडिया के एक रीड भी है वर्ग का इस्तेमाल कर रही है। मैं सत्ता के इस घृणित दुरुपयोग की निंदा करता हूं। 

 -  राहुल गांधी



सीबीआई- ईडी ने केविएट दायर की, विदेश भागने से रोकने के लिए लुकआउट नोटिस भी जारी

चिदंबरम बुधवार को भी सुप्रीम कोर्ट से राहत पाने में नाकाम रहे।उनकी ओर से 12 वकीलों की फौज दिनभर कोर्ट में भागदौड़ करती रही, लेकिन गिरफ्तारी पर रोक की मांग वाली याचिका पर सुनवाई नहीं हो पाई। वकील दिन में दो बार जस्टिस एनवी रामना और शाम 4:00 बजे चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के समक्ष सुनवाई का आग्रह लेकर पहुंचे, लेकिन कहीं से राहत नहीं मिली। शाम 4:30 बजे  रजिस्ट्रार ने वकीलों को बताया कि इस याचिका पर शुक्रवार सुबह सुनवाई होगी। इस बीच, सीबीआई और ईडी ने भी सुप्रीम कोर्ट में केविएट दायर कर दी है। जांच एजेंसियों ने मांग की है कि उनका पक्ष सुने बिना सुप्रीम कोर्ट चिदंबरम के मामले में कोई फैसला ने सुनाएं। दूसरी तरफ चिदंबरम को विदेश भागने से रोकने के लिए सीबीआई और ईडी ने बुधवार को उनके खिलाफ लुक आउट नोटिस भी जारी कर दिया। उल्लेखनीय है कि आईएनएक्स मीडिया केस में दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा था कि उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ जरूरी है। सीबीआई की टीम में जब उन्हें गिरफ्तार करने पहुंची थी तो चिदंबरम घर से गायब मिले थे।
 

रविवार, 11 अगस्त 2019

भगवान राम के 251 मीटर ऊंची प्रतिमा पर स्थापना से पहले ही अयोध्या में हुआ विवाद

       सरयू किनारे स्थापित होने जा रही प्रतिमा की                जमीन अधिग्रहण के विरोध में 85 लोग



एक और जहां सुप्रीम कोर्ट राम जन्मभूमि विवाद को लेकर रोजाना सुनवाई कर रहा है वहीं अयोध्या में एक नया विवाद खड़ा हो गया है। विवाद योगी सरकार के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट से जुड़ा है। 251 मीटर ऊंची भगवान राम की मूर्ति से जुड़े प्रोजेक्ट के लिए जमीन अधिग्रहण विरोध के साए में चल रहा है। दरअसल अधिकरण के दायरे में सरयू तट के मीरपुर इलाके वे हाईवे पुल के बीच की जमीन पर बने पांच मंदिर, 22 खातेदार, 517 पेड़ और 165 लोगों के मकान आ गए हैं। इनमें से करीब 85% ग्रहण का विरोध कर रहे हैं। इस विरोध के कारण पूर्व निर्धारित समय सीमा में काम पूरा होना मुश्किल दिख रहा है वहीं राज्य सरकार जल्द से जल्द इस प्रोजेक्ट को पूरा करना चाहती है। 
सरयू नगर कॉलोनी माझा मीरपुर के अध्यक्ष देवेश आचार्य कहते हैं हमारी कॉलोनी को इस अधिग्रहण से मुक्त रखा जाना चाहिए। और अगर अधिग्रहण करना भी है तो हाईवे के सर्किल रेट से 4 गुना ज्यादा मुआवजा दिया जाना चाहिए इतना ही नहीं, हमारा पुनर्वास भी प्रतिमा स्थल से 1 किलोमीटर सीमा के दायरे में ही होना चाहिए। बहरहाल मामला हाई कोर्ट तक पहुंच चुका है। योगी सरकार के लिए यह प्रोजेक्ट कितना खास है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 3 अगस्त को मुख्यमंत्री ने यहां का दौरा किया था। कई बड़ी योजनाएं के लिए यहां 26 अक्टूबर तक दोनों होने वाले दीपोत्सव पर तक की डेडलाइन तय कर रखी है। मुख्यमंत्री योगी लगातार योजना का वेट ले रहे हैं। 


     विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा अयोध्या में होगी

•    श्री राम जी की प्रतिमा 251 मीटर
•     सरदार पटेल की प्रतिमा 186 मीटर    
•     गौतम बुध (चीन) 128 मीटर
•    Statue of Liberty 93 metre
      


           कई मायनों में खास हो गई है प्रतिमा

प्रोजेक्ट के तहत सरयू किनारे 100 एकड़ में कायाकल्प कराया जाएगा। 251 मीटर ऊंची इस प्रतिमा में 20 मीटर ऊंचा चक्र भी होगा। मूर्ति 50 मीटर ऊंचे देश पर खड़ी होगी बेस के नीचे ही भव्य म्यूजियम बनाया जाएगा जहां टेक्नोलॉजी के जरिए भगवान विष्णु के सभी अवतारों को दिखाया जाएगा। यहां डिजिटल म्यूजियम,      फूड प्लाजा,   लैंडस्कैपिंग,   लाइब्रेरी,   रामायण काल की गैलरी आदि प्रस्तावित है

सोमवार, 5 अगस्त 2019

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने किया जम्मू कश्मीर की धारा 370 का खात्मा


  • अमित शाह का 370 हटाने को लेकर संसद में बयान
  • जम्मू कश्मीर अब केंद्र शासित प्रदेश होगा
  • मोदी सरकार का कश्मीर पर बड़ा फैसला
  • जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग किया गया

  • पहला सावन सोमवार:- chandrayaan-2 लॉन्च। 
  • दूसरा सावन सोमवार:- तीन तलाक बिल पास। 
  • तीसरा सावन सोमवार:- यानी आज धारा 370 खत्म
  • चौथा सावन सोमवार:- अभी बाकी है
       

  •                             अब राम जाने क्या होने वाला है
  • जम्मू एंड कश्मीर में सभी भारतीय डीजे पर एक ही गाना बज रहा है
  • ओ मेरी महबूबा महबूबा महबूबा! 
  • तुझे जाना है तो जा, तेरी मर्जी मेरा क्या
   



  •  कश्मीर से शुभ संकेत
  •  सचिवालय से कश्मीर का अधिकारिक झंडा उतारा गया
  •  कश्मीर में इंटरनेट सेवा बंद
  • उमर अब्दुल्ला और महबूबा घर में गिरफ्तार
  •  धारा 144 लागू
 
       

  • जहां हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है
  • जो कश्मीर हमारा है वह सारा का सारा है

  •  अमित शाह मैं धारा

  • राष्ट्रपति मैं बिल्कुल सहमत हूं लाइए साइन कर देता हूं

  • अमित शाह सर बोल तो लेने दीजिए आपको तो मेरे से भी ज्यादा जल्दी है

  •  #Kashmir par Final Fight# Bharat Ek Hai


  •  अब तो मेरा भी मन करता है कि मैं भी केदारनाथ जी होकर आऊं गजब सी शक्तियां मिलती है जय बाबा भोलेनाथ की
  • #ARTICLE370




फ्रेंडशिप डे : इजरायल ने भारत से कहा यह दोस्ती हम नहीं छोड़ेंगे

        मोदी नेतन्याहू ने एक दूसरे को बधाई दी

इजराइल ने रविवार को भारत को फ्रेंडशिप डे की बधाई दी।इजरायली दूतावास ने ट्विटर पर लिखा "हैप्पी फ्रेंडशिप डे 2019 इंडिया। हम अपनी दोस्ती को और मजबूत करेंगे आपसी साझेदारी को अधिक ऊंचाइयों पर ले जाएंगे। ये दोस्ती हम नहीं छोड़ेंगे। 
         
                     इस मैसेज के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की मुलाकातों का वीडियो भी था। इसमें फिल्म शोले के गाने "ये दोस्ती हम नहीं छोड़ेंगे की धुन भी बज रही थी। प्रधानमंत्री मोदी ने भी इस बधाई पर ही भू में ट्वीट किया, "भारत और इजरायल ने अपनी दोस्ती साबित कि। इजराइल की जनता और मेरे दोस्त नेतन्याहू को हैप्पी फ्रेंडशिप डे। दोनों देशों के बीच मजबूत और कभी न खत्म होने वाला संबंध है। इसके बाद नेतन्याहू ने भी ट्वीट किया,"धन्यवाद मेरे मित्र भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। दोनों देशों की दोस्ती की जड़ें बहुत गहरी है। बता दें कि नेतन्याहू कि अगले महीने भारत आने की योजना भी है। 


दुनिया का सबसे छोटा लैपटॉप; इसकी स्क्रीन 1 इंच की है

अमेरिका के आईटी इंजीनियर पोल क्लीन गाने दुनिया का सबसे छोटा लैपटॉप बनाया है। इस लैपटॉप की स्क्रीन सिर्फ 1 इंच की है।इसका डिस्प्ले 0.96 सेंटीमीटर का है। इसे बनाने में 7 दिन लगे और इसमें 85 dollar खर्च हुए है। पोल के मुताबिक, उन्होंने इस लैपटॉप का नाम 'थिंक टिनी' रखा है। यह लैपटॉप आईबीएम के थिंकपद का छोटा रूप है। इस छोटे से लैपटॉप में थिंक पेड़ की तरह की पेड़ के बीच में लाल रंग का ट्रेकप्वाइंट स्टाइल करसन कंट्रोलर भी दिया गया है। इसमें 300 एमएएच की बैटरी है। जिसे चार्ज भी किया जा सकता है।इस मिनी लैपटॉप में यूजर गेम भी खेल सकते हैं। 

मडावग गांव एशिया के सबसे अमीर गांव में से एक है

                    मडावग को सेब ने बनाया सबसे अमीर गांव, 

              

                           सभी की आय 70लाख से ऊपर



शिमला से 92 किलोमीटर दूर 7774 फीट ऊंचाई पर बसा मंडावग गांव एशिया के सबसे अमीर गांव में शामिल है यहां हर परिवार की सालाना आमदनी 70 से 75 लाख रुपए है यह सेब के बागानों में जो की गई मेहनत का नतीजा है उम्मीद है कि 1800 की मामूली आबादी वाले इस गांव से इस साल करीब 700000 पेटी सेब निकलेंगे वह भी देश में सबसे अच्छी क्वालिटी के सेव यहां रॉयल एप्पल रेट गोल्ड गेल गाला जैसी कई किस में किसानों ने लगाई है गांव में 80 के दशक तक सेव नहीं था 1990 में किसान हीरा सिंह डोगरा पहली बार सेब के पौधे लाए थे उनका प्रयोग सफल रहा तो पूरा गांव से उगाने लगा फिर आसपास के गांवों में भी से लगाए जाने लगे हीरा सिंह बताते हैं कि आज मड़ावग सहित पूरे पंचायत से 12 से 15 लाख बॉक्स से हर साल दुनिया भर में जाता है ।मड़ावग  के लोगों ने शिमला को चौपाल सब डिवीजन से जोड़ने के लिए खुद 10 किलोमीटर लंबी सड़क बनाई है, ताकि उनकी उपज आसानी से मंडियों तक पहुंच जाए। 2003 के बाद इन गांव में समृद्धि आने लगी कभी छोटे बेतरतीब बने घरों वाले मड़ावग
में आज आलीशान कोठियां नजर आती है। कमाई का ज्यादातर हिस्सा फसल को बचाने वाली नई टेक्नोलॉजी और दवाओं पर खर्च होता है। आसपास अच्छे स्कूल कॉलेज नहीं है, इसलिए गांव के बच्चे सिम लाया चंडीगढ़ में पढ़ते हैं। 



ओले, बर्फबारी से बचने के लिए सालभर पेड़ों की देखरेख होती है, ताकि अच्छी क्वालिटी के सेब आए

मड़ावग का सेव सबसे अच्छी क्वालिटी का होता है इन का साइज बड़ा होता है। और जल्दी खराब भी नहीं होता बड़ा वर्ग के लोग सेव बागानों की देखभाल बच्चों की तरह करते हैं ठंड के मौसम में बगीचों में रात दिन डटे रहते हैं। जीरो डिग्री से भी कम तापमान में लोग पेड़ों से बर्फ हटाने में जुट जाते हैं। यह बर्फ पेड़ों की शाखाएं तोड़ सकती है अगस्त सितंबर तक फसल तैयार होती है। इस बीच अगर ओले गिर जाए तो पूरी फसल बर्बाद हो सकती है। इसलिए सेम को बचाने के लिए बगीचों के ऊपर नेट लगाए जाते हैं। नवंबर से मार्च तक बगीचों में पेड़ों की प्रूनिंग से लेकर जरूरी स्प्रे और खाद गोबर देने के साथ चुना लगाने का काम पूरा होता है। ताकि अगले मौसम में अच्छी फसल मिल सके गांव वाले हर स्तर पर अपनी फसलों की देखरेख खुद ही करते हैं। उनकी एक शिकायत यह है। कि सरकार को हर साल लाखों रुपए रेवेन्यू देने वाले इस गांव तक आज भी बागवानी विभाग का कोई विशेषज्ञ नहीं पहुंचा जबकि प्रदेश में बागवानी विभाग होने के साथ ही हॉर्टिकल्चर यूनिवर्सिटी भी है। अगर सरकार से मदद मिले तो किसान सेब का उत्पादन और बढ़ा सकते हैं। 

रविवार, 4 अगस्त 2019

ऑनलाइन दिखेगी मरीज की पूरी हिस्ट्री

किसी मरीज को उसकी बीमारी और उपचार के बारे में केवल उतना ही जानकारी होती है जितना कि डॉक्टर बताते हैं ।अधिकांश बातें मरीज और उसके परिजनों से छुपाई जाती है लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।
                   डिजिटल इंडिया के तहत प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने आईएचएमएस प्रारंभ किया है ।इसके तहत ब्यावर के राजकीय अमृत कौर अस्पताल में 1 अगस्त से आईएचएमएस  प्रारंभ कर दी गई इसमें मरीजों की बीमारी उपचार व संबंधित डॉक्टर से संबंधित सभी जानकारियां अब ऑनलाइन होगी इसके अलावा अस्पताल की ओपीडी में पंजीयन कराने के लिए घंटों लाइन में लगने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी मोबाइल ऐप के माध्यम से घर बैठे ही मरीज ओपीडी में रजिस्ट्रेशन करा सकेगा और अपनी जांच रिपोर्ट भी देख सकेगा ।अभी तक मरीजों की हिस्ट्री ऑनलाइन करने की व्यवस्था मेडिकल कॉलेज में ही है ब्यावर का राज के अमृत कौर अस्पताल इस सुविधा को देने वाला जिला का पहला जिला अस्पताल है ।सरकारी अस्पतालों में पहली बार यह व्यवस्था की जा रही है यह योजना सभी डिस्टिक हॉस्पिटल सब डिविजनल हॉस्पिटल के बाद सीएचसी और पीएचसी में भी लागू होगी।


          हर मरीज को मिलेगी यूनिक आईडी

राजकीय अमृत कौर अस्पताल में 1 अगस्त से यह सुविधा प्रारंभ कर दी गई है इस सुविधा के तहत मरीजों का अस्पताल से यूनिक एच आई डी जारी की जाएगी यह आईडी यूनिक होगी और मरीज जब भी अस्पताल जाए तो सिर्फ अपनी आईडी बता दे तो उसकी सारी जानकारी के साथ उसे पिछली बार किस डॉक्टर ने चेक किया क्या दवाई लिखी और अगर जांच करवाई तो उसकी क्या रिपोर्ट थी यह तक ऑनलाइन सामने आ जाएगी। 


          जानिए कैसे कर सकते हैं डाउनलोड 

आप अपने एंड्रॉयड फोन के प्ले स्टोर में जाए जहां सर्च ऑप्शन में ih&ms राजस्थान सर्च करें जहां से आप इस ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं। ऐप के डाउनलोड होने के बाद स्क्रीन पर दो ऑप्शन आएंगे एक ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट दो लेबोरेटरी रिपोर्ट मरीज को अपना मोबाइल नंबर रजिस्टर करवाना होगा ।जिस पर एक ओटीपी आएगा जिसको दर्ज करने के बाद मोबाइल स्क्रीन पर सिटीजन सर्विस पेज सामने आएगा। जहां अजमेर जिले को सर्च करने पर अजमेर के जेएलएन मेडिकल कॉलेज के अस्पतालों के बाद ब्यावर के राजकीय अमृत को अस्पताल का नाम आएगा अगर आप भामाशाह कार्ड धारी हैं तो आपको अपनी भामाशाह आईडी डालनी होगी अन्यथा हॉस्पिटल आईडी दर्ज करनी होगी फिर आप की सभी जानकारियां दर्ज करने के बाद आपको किस विभाग में दिखाना है यह दर्ज करना होगा ।आप चाहे तो 1 सप्ताह के दौरान कोई भी वार और दिन का समय चुनकर अपॉइंटमेंट लेकर कंफर्म कर सकते हैं। 


              सभी योजनाएं होगी इंटीग्रेटेड

इस सुविधा के साथ अस्पतालों में संचालित हो रही सभी योजनाएं इंटीग्रेट की जाएगी  एक के एच के टेक्निकल सपोर्ट इंजीनियर सुरेश स्वामी ने बताया कि फिलहाल इस योजना के तहत अमृत कौर अस्पताल की ओपीडी ओपीडी और ऑनलाइन अप्वाइंटमेंट शुरू किया गया है  जल्दी इससे निशुल्क दवा योजना और भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना को इंटीग्रेट किया जाएगा ।पीसीटीएस सॉफ्टवेयर से 20 को इंटीग्रेट किए जाने पर काम चल रहा है सुरेश स्वामी ने बताया कि अगले चरण में एक एएच की लैब को ih&ms से इंटीग्रेट किया जाएगा ।लेब की सारी मशीनों को इस से अटैच किए जाने के बाद मरीज की स्लिप में लिखी गई जांच के लिए सैंपल लेगा और उसकी जानकारी जैसे ही कंप्यूटर में डालेगा वह मरीज की यूनिक हॉस्पिटल आईडी को रीड कर लेगा मशीन में सैंपल डालने के बाद जैसे ही उसकी रिपोर्ट तैयार होगी सारी जानकारी ले कंप्यूटर के साथ ही मरीज के मोबाइल पर भी आ जाएगी जिसे मरीज डॉक्टर को दिखा सकता है। और उसका प्रिंट भी ले सकें। 


यह होगा लाभ

 online OPD:    इंटरनेट के माध्यम से ओपीडी में रजिस्ट्रेशन इसके बाद बीमारी के आधार पर संबंधित डॉक्टर और उनसे मिलने का समय मोबाइल में ऐप मिलेगा डॉक्टर से मिलने का समय बदलेगा तो इसकी सूचना भी एक पर मरीज को मिल जाएगी ऑनलाइन ओपीडी अगर जरूरत पड़ी तो मरीज को अस्पताल में भर्ती करना पड़ेगा तो उसकी भी सारी जानकारी ih&ms ऐप डाउनलोड हो जाएगी। 

 मरीज की हिस्ट्री-     मरीज की हिस्ट्री ऑनलाइन होगी इससे उसकी बीमारी उपचार दवा व इलाज करने वाले डॉक्टर की जानकारी कभी भी देख सकते हैं मरीज को उपचार की फाइल रखने की जरूरत नहीं होगी दोबारा आने पर केवल यूजर आईडी या ओपीडी रजिस्ट्रेशन नंबर हिलाना होगा इलाज को लेकर पारदर्शिता आएगी।

 दवा व पैथोलॉजी रिपोर्ट ऑनलाइनऑनलाइन-   किस तरह की बीमारी के लिए कितनी दवाइयां बांटी गई है दवाई स्टोर में दवाइयों की स्थिति की जानकारी ऑनलाइन रहेगी इसके अलावा मरीजों की पैथोलॉजी जांच की स्थिति और रिपोर्ट को ऑनलाइन देखा जा सकेगा। 

इन सितारों के लिए उनके दोस्त और दोस्ती रखती है सबसे ज्यादा मायने

                             कुश शाह

मैं पिछले 11 साल से  'तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो' से जुड़ा हुआ हूं।  हम टप्पू सेना की दोस्ती बहुत खास है। ना सिर्फ ऑनस्क्रीन बल्कि ऑफ स्क्रीन भी। यकीन मानिए हम हर दिन फ्रेंडशिप डे मनाते हैं। मेरी लाइफ में टप्पू सेना का हर सदस्य राज अनादकट निधि भानुशाली समय शाह भव्य गांधी और अजहर शेख आदि एक दूसरे के बेस्ट फ्रेंड्स फॉरएवर है।




                          जय भानूशाली


करीबी दोस्त वही होते हैं जो आपके लिए लाइफ के हर मोड़ पर खड़े होते हैं। मैं खुशनसीब हूं कि मेरे पास एक नहीं बल्कि 3 खास दोस्त है। नदीम मुन्ना और  भोपी। यह लोग मेरे सबसे अच्छे दोस्त हैं, जिन से नियमित रूप से मिलता रहता हूं। यह ऐसे लोग हैं जिनकी सोच मेरी सोच से बहुत मिलती जुलती है। वह मेरे बहुत पुराने दोस्त है और मेरी लाइफ के हर उतार-चढ़ाव का हिस्सा बने रहते हैं। वे मेरी लाइफ में एक मजबूत बुनियाद की तरह खड़े रहते हैं



                       आशका गोराडिया

अबीगैल पांडे और मैं नच बलिए के वक्त से एक दूसरे को जानते हैं वह और उसका बॉयफ्रेंड सनम जो हर अब मेरे परिवार जैसे हैं। अभी मुझे योगाभ्यास कराने वाली पहली इंसान थी। योग के लिए हमारा प्यार कभी कम नहीं होता है, इसलिए हम जहां भी जाते हैं वहां एक साथ योग करते हैं। अबीगैल मेरी सबसे अच्छी और खास दोस्त है। हमारे लिए फ्रेंडशिप का रिश्ता बहुत मायने रखता है। वह मेरी बेस्ट फ्रेंड फॉरएवर है।





                          शांतनु माहेश्वरी

मेरे पहले शो की प्रोजेक्ट हेड पलकी मल्होत्रा मेरे सबसे करीबी दोस्त में से एक है। वह मेरी लाइफ के हर उतार-चढ़ाव का हिस्सा रह चुकी है उसने मेरी एनर्जी को सही मायनों में चैनेलाइज करने में मेरी मदद की है। साथ ही मुझे अपनी खामियों को स्वीकार करने और ऐसी चीजों से दूर रहने में मदद मिली यह सभी चीजें मेरे लिए बहुत मायने रखती है। उसकी इन शिक्षकों ने मुझे अपने व्यक्तित्व को आकार देने में मदद की आज मैं जो हूं, उसकी वजह से हूं ।वह मेरी सच्ची दोस्त है। 


महाराष्ट्र में बहुत भारी बारिश, 2 की मौत 8 जिलों में स्कूल बंद,अब सूरत में 2 घंटे में सबसे ज्यादा 200 मिमी बरसात।

     मध्य प्रदेश दिल्ली छत्तीसगढ़ में भी भारी बारिश

 देश में शनिवार को भी बारिश जारी रही। महाराष्ट्र में बारिश से हुए हादसों में दो लोगों की मौत हो गई। राज्य के 8 जिलों में बारिश के कारण स्कूलों की छुट्टी घोषित करनी पड़ी। राज्य के रायगढ़ जिले में 8 घंटे में सबसे ज्यादा 175 पॉइंट 5 मिमी बारिश हुई। यह सामान्य से 138 पॉइंट 9 मिमी ज्यादा है। जिले में मुंबई गोवा हाईवे पर भूस्खलन हुआ। मुंबई की पांडव कड़ा पहाड़ियों के झरने में शनिवार सुबह 4 कॉलेज छात्राएं बह गई थी। दोपहर को इनमें से एक का शव मिला। मुंबई एयरपोर्ट पर खराब मौसम के कारण 10 उड़ानें रद्द कर दी गई। 
               ठाने में बारिश के कारण करंट लगने से 18 साल के युवक की मौत हो गई। पालघर के पास समुद्री तट पर तेज लहरों के कारण गुजरात से आया मालवाहक जहाज चट्टान से टकरा गया। जहाज के सभी 13 कर्मी सुरक्षित है। 
                                   वहीं,गुजरात में वडोदरा,राजकोट के बाद शनिवार को सूरत में भारी बारिश हुई। यहां 2 घंटे में 200 मिमी बारिश हुई। इससे शहर के निचले इलाकों में पानी भर गया। वडोदरा में एनडीआरएफ ने  5700 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। 


 देश का हाल:  तेलंगाना में गोदावरी खतरे से                                   ऊपर,44 गांवों में पानी भरा

मौसम विभाग के मुताबिक तेलंगाना के भद्रचलम जिले में गोदावरी नदी का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर 44 फीट पर पहुंच गया। इससे 44 गांव में पानी भरना शुरू हो गया है। कर्नाटक में कृष्णा नदी का जलस्तर बढ़ने से 40 गांवों में बाढ़ जैसे हालात हैं। 13 परिवारों को सुरक्षित जगह पर पहुंचाया। 


 मानसून:  शनिवार को 16 राज्यों में ज्यादा; 3 में                        सामान्य, 6 में कम बारिश दर्ज हुई

देशभर में शनिवार को 24 घंटे में औसतन 13 पॉइंट 4 मिमी बारिश हुई। यह सामान्य से 4 पॉइंट 3 मिनी ज्यादा है। सबसे ज्यादा औसतन बारिश महाराष्ट्र में 40 पॉइंट 6 मिमी रही। देश के 9 राज्यों में बहुत ज्यादा साथ में ज्यादा 3 में सामान्य 6 में कम और 10 में बहुत कम बारिश हुई। सिर्फ लक्ष्यद्वीप में शनिवार को बारिश नहीं हुई। 


 आगे क्या: 12 राज्यों में भारी और बहुत भारी बारिश                    की चेतावनी

  अगले 24 घंटों में 12                                            राज्योंगोवा,महाराष्ट्र,गुजरात,ओडिशा,केरल, आंध्र प्रदेश,कर्नाटक छत्तीसगढ़,मध्य प्रदेश,हिमाचल और उत्तराखंड में भारी या बहुत बारिश की संभावना है। गुजरात महाराष्ट्र,गोवा और ओडिशा के समुद्री तटों पर हवाएं 40 से 50 किलोमीटर की रफ्तार से चल सकती है



शनिवार, 3 अगस्त 2019

भारत भी अब लग चुका है खेती को स्मार्ट बनाने में।

भारत में तकनीकी का इस्तेमाल तेजी से बढ़ता जा रहा है.। आज देश के ग्रामीण क्षेत्रों के ज्यादातर लोगों के हाथ में आपको मोबाइल दिखाई देगा। वह मोबाइल पर बात ही नहीं करते बल्कि फेसबुक,व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का जमकर उपयोग भी करते हैं। इसलिए इस डिजिटल तकनीक को खेती में भी इस्तेमाल किए जाने की जबरदस्त संभावना है। बस जरूरत है तो इस क्षेत्र में तकनीक के बेहतर अवसर तलाशने की। आज देश में 12 करोड किसान सीधे खेती और खेती से जुड़े अन्य व्यवसायियों से ताल्लुक रखते हैं। 
                      देश में करोड़ों ग्रामीण युवा गांव में रोजगार तलाशते हैं। हाल ही में अंतरराष्ट्रीय आर्थिक संस्थान के अनुसार लगभग 30% युवाओं को ने तो शिक्षा और नहीं रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। हमारे देश की लगभग 57 फ़ीसदी जनसंख्या की आयु 30 वर्ष से कम है, जो कि करीब 75 करोड के आसपास है, जिनमें से केवल 100000000 छात्र शिक्षा तथा रोजगार प्राप्त कर रहे हैं।  यदि इन ग्रामीण युवाओं को कृषि में डिजिटल तकनीक इस्तेमाल करने का प्रशिक्षण दिया जाए तो इसमें उन्हें जहां नया रोजगार मिलेगा, वहीं दूसरी ओर हमारी कृषि की उत्पादन क्षमता भी बढ़ेगी। इससे किसान की आमदनी बढ़ने की भी संभावना है ।ग्रामीण क्षेत्रों में हर मां है 1000000 बेरोजगार युवा बढ़ रहे हैं।इन्हें रोजगार देकर उत्पादन बढ़ाना है हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए। 
           विभिन्न शोध और उदाहरणों से साफ हो गया है कि डिजिटल तकनीक के इस्तेमाल को बढ़ाने से कृषि क्षेत्र में उत्पादन  लगभग (10 परसेंट )एवं उत्पादकता( लगभग 5 परसेंट) बढ़ाने में सफलता मिली है। इसके अलावा उत्पादन की गुणवत्ता में सुधार हुआ और किसान का नगद लाभ भी  बढ़ा है। सबसे बड़ा उदाहरण पंजाब,हरियाणा,उड़ीसा,बिहार का है। वहां पर किस क्षेत्र में धान की खेती के लिए कितना पानी देना है। पौधों की दूरी कितनी रखनी है और किस समय पर खेत के क्षेत्र में कितनी खाद देनी है। इन सब का ध्यान डिजिटल तकनीक के जरिए रखा गया। इसका परिणाम यह रहा कि धान का उत्पादन और उत्पादकता भी इतना इजाफा हुआ कि देश में बीते 4 वर्षों के दौरान धान का उत्पादन 10 पॉइंट 36 करोड़ टन से बढ़कर 11 पॉइंट 50 करोड़ टन के स्तर पर पहुंच गया। किसान को डिजिटल तकनीक के माध्यम से समय पर मौसम की ताजा जानकारी दी  जा सकती है। आज देश को भूजल स्तर गिरने की एक बहुत बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है।  डिजिटल तकनीक के माध्यम से हम किसानों को जागरूक कर सकते हैं कि उनके राज्य जिले एवं तालुका में जलस्तर कैसा है जिससे जल का सदुपयोग किया जा सके। फसलों को विभिन्न प्रकार के कीटों एवं बीमारियों के प्रकोप से बचाने के लिए भी जागरूक किया जा सकता है। भूमि के गुणवत्ता स्तर की जानकारी भी दी जा सकती है। 
                                आज दुनिया के अनेक प्रगतिशील देशों में खेती में रोबोट के उपयोग की संभावना बढ़ी है।  यदि बड़े क्षेत्र में किसी बीमारी या कीट का प्रकोप आया है तो हम रोबोट के माध्यम से विभिन्न तरह की दवाइयों का एक साथ स्प्रे करके इस पर नियंत्रण कर सकते हैं। चीन में बड़े स्तर पर रोबोट द्वारा खरपतवार हटाने का कार्य किया जा रहा है। आज रोबोट के माध्यम से खेती में स्वचालित प्रक्रिया की जा सकती है जैसे- दवाओं का स्प्रे,पके फलों की सही समय पर तोड़ना और उसकी पैकिंग करना आदि। कठिन स्थान,पहाड़ी आदि क्षेत्रों में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है। 
         इसके उपयोग से समय और शक्ति की बचत होती है। यही नहीं,आज मौसम में बहुत बड़ा परिवर्तन देखने को मिल रहा है। 
डिजिटल तकनीक से हम मौसम की यही जानकारी समय पर यदि उपलब्ध करा दें तो खेती में जो प्राकृतिक हानि होती है उसे काफी हद तक कम किया जा सकता है।  डिजिटल तकनीक के माध्यम से किसान को समय रहते जागरूक किया जा सकता है कि वह जिस फल को गाना चाहता है उसको खेत की तैयारी कब और कैसे करनी है। किस वैरायटी का बीज उसके क्षेत्र के लिए उपयोगी है,बुवाई का उचित समय कौन सा होगा,बुवाई के समय जमीन में नमी का प्रतिशत क्या होगा, सिंचाई किस समय करना उचित होगा और यदि किसी भी तरह की प्राकृतिक आपदा की आशंका है तो किसान को समय से सचेत कर उससे बचने के उपाय बताए जा सकते हैं। 
       यदि किसान अपनी पैदावार को बेचना चाहता है तो डिजिटल तकनीक से देश की मंडियों की भी जानकारी देकर बताया जा सकता है कि किसान को अपने उत्पाद के अच्छे दाम किस मंडी से मिल सकते हैं स्मार्टफोन के प्रयोग से खेती को भी स्मार्ट बनाया जा सकता है इंटरनेट के उपयोग से अपनी फसल के बारे में संपूर्ण जानकारी ली जा सकती है। यदि फसल एवं पशुओं में किसी तरह के रोग का प्रकोप हुआ है तो इस स्मार्टफोन के माध्यम से फोटो भेज कर विशेषज्ञ से जानकारी ली जा सकती है। आवश्यकता है कि सरकार इस क्षेत्र में आवश्यक तकनीक उपलब्ध कराए और किसानों एवं ग्रामीणों युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाए जिससे प्रभावशाली ढंग से इसका उपयोग किया जा सके। डिजिटल तकनीक के प्रयोग से भारतीय कृषि एवं किसानों की हालत में सुधार आएगा देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी तथा ग्रामीण युवाओं के लिए रोजगार उन्हीं क्षेत्र में उपलब्ध हो सकेगा। 



सौर ऊर्जा से रोशन हो रहा है रेलवे,बिजली का बिल भी होगा कम

10000 करोड रुपए बिजली का बिल भरता है रेलवे

         जोधपुर : सौर ऊर्जा का सबसे अधिक इस्तेमाल रेलवे कर रहा है जो अधिकांश स्टेशनों पर सोलर प्लांट लगा चुका है।अब इसकी योजना करीब 4 गीगा वाट के सोलर प्रोजेक्ट लगाने की है जिससे सौर ऊर्जा के इस्तेमाल से उसका बिजली बिल कम हो। राजस्थान सहित दक्षिण भारत के राज्यों में यह प्रोजेक्ट लगेंगे। 

                                   जानकारी के मुताबिक रेलवे को प्रतिवर्ष 16 बिलियन यूनिट यानी करीब 12 गीगावॉट संयंत्र से बनने वाली बिजली की जरूरत होती है। रेलवेज के लिए करीब 10000 करोड का बिल भरता है। अब 4 गीगावॉट का प्लांट लगाने के लिए करीब 18000 करोड़ की राशि खर्च की जाएगी। इससे करीब एक तिहाई बिजली का वार्षिक खर्च रेलवे बचा सकेगा जिससे उसके राजस्व में भी वृद्धि होगी। 

    500 मेगा वाट की प्लानिंग तो पहले ही हो चुकी :

     रेलवे ने देश में कहीं स्टेशन में भवनों पर सोलर रूफटॉप सिस्टम लगाकर 500 मेगावाट बिजली बनाने की शुरुआत पहले ही कर दी है। राजस्थान सहित देश के कई स्टेशनों पर यह सोलर सिस्टम लगे हैं।  रेलवे ने अपने 500 से ज्यादा स्थानों पर यह प्लांट लगाए हैं। इसमें रेलवे स्टेशन,कार्यालय और कहीं रेलवे कॉलोनियों के साथ वर्कशॉप भी शामिल है। राजस्थान में रेलवे ने अपनी 80 से अधिक भवनों पर यह सोलर पैनल लगाए हैं। भविष्य में रेलवे अपने दूसरे भवनों पर भी सोलर पैनल लगाने की तैयारी में है। 

                  राज्य सरकार भी करें पहल

रेलवे की तर्ज पर ही रोडवेज व अन्य सरकारी विभाग भी पहल करें तो वैकल्पिक ऊर्जा का अच्छा स्रोत तैयार हो सकता है। राज्य और केंद्र सरकार को चाहिए कि सरकारी भवनों पर इस प्रकार की पहल करें तो जरूरत की आधी बिजली अपने स्तर पर बनाई जा सकती है। साथ ही महंगी बिजली खरीद से भी बचा जा सकता है। खासतौर पर राजस्थान जैसे प्रदेश में जहां सौर ऊर्जा का जेनरेशन अच्छा है वहां उसका बड़ा महत्व है।


सावन का महीना भगवान शिव का त्यौहार।

 हरिद्वार में गंगा जल लेने के लिए 7 दिन में पहुंचे 3.3 करोड़ कावड़िए। 

               शिव भक्तों पर हेलीकॉप्टर से फूलों की बारिश
 हरिद्वार-    सावन महीने में शिव भक्तों कि 15 से ज्यादा राज्यों में कावड़ यात्रा चल रही है।सबसे ज्यादा भीड़ उत्तराखंड के हरिद्वार में है।  वहां सावन के दूसरे सोमवार को हर की पौड़ी समेत पूरी धर्म नगरी में करीब 30 लाख से ज्यादा कावड़ यात्रियों ने शिव अभिषेक के लिए गंगाजल लिया। इस दौरान उन पर हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा भी करवाई गई। हरिद्वार एसएसपी जन्म जे खंडूरी ने बताया कि 7 दिन में 3 पॉइंट 3 करोड़ श्रद्धालु गंगा जल लेकर जा चुके हैं। 

कावड़ यात्रा : हरिद्वार गोमुख गंगोत्री और सुल्तानगंज से भक्त                          गंगाजल लेने जाते हैं
                 •  सावन में भगवान शिव के अभिषेक के लिए भक्त                        उत्तराखंड के हरिद्वार,गोमुख,गंगोत्री के अलावा                          बिहार के सुल्तानगंज से गंगाजल लाते हैं। 
                 •  सावन में झारखंड,बिहार, बंगाल, यूपी, एमपी,                         छत्तीसगढ़ समेत 15 राज्यों में कावड़ यात्रा होती है।
    इंतजाम  :  दिल्ली में कावड़ियों  के 200 कैंप देहरादून हाईवे                        पर भारी वाहन बंद
                 • दिल्ली में कावड़ियों के लिए 200 शिविर बनाए गए                      हैं 130 किलोमीटर लंबे दिल्ली देहरादून हाईवे से                        30 जुलाई तक सिर्फ कावड़िया ही गुजर सकेंगे। 
                 • यात्रा मार्ग पर अस्थाई अस्पताल,एंबुलेंस से लेकर                        पुलिस चौकी तक की व्यवस्था है।
     सुरक्षा   :  90 ड्रोन कैमरा से निगरानी,पीएससी की 19                             कंपनियां,एनएसजी तैनात है
                 •  200 सीसी टीवी  90 ड्रोन कैमरा से दिल्ली                              पुलिस निगरानी कर रही है पीएसी की 19                                 कंपनियां तैनात है। 
     


गुरुवार, 1 अगस्त 2019

एक गरीब बच्चे की दुख भरी कहानी।

            एक बच्चे का अपनी मां के लिए प्यार

           एक 10 साल का अखबार बेचने वाला गरीब लड़का                           किसी के घर पर जाकर गेट बजाता है।                                  (उस दिन शायद अखबार नहीं छपा होगा)। 

    मालकिन:- बाहर आकर पुछी  क्या है। 
    लड़का:-   आंटी जी क्या मैं आपका गार्डन साफ कर सकता हूं।    मालकिन:- हमें नहीं करवाना बेटा। 
    लड़का:-   हाथ जोड़ते हुए कहता है प्लीज आंटी जी करवा                         लीजिए,अच्छे से  सफाई करूंगा। 
    मालकिन:-द्रवित होते कहती है अच्छा ठीक है कितने पैसे लेगा।
    लड़का:-   पैसे नहीं एंटी जी खाना खिला देना। 
    मालकिन :-ठीक है आ जाओ अच्छे से काम करना है। 
                  (बेचारा लगता है भूखा है खाना खिला देती हूं उसे                         देखकर मालकिन की आंखों में आंसू आ गए) 
    मालकिन:- बेटा पहले खाना खा ले काम बाद में करना। 
    लड़का :-  आंटी जी पहले काम कर लूंगा फिर खाना दे देना
    मालकिन:- ठीक है कह कर अपना काम करने लगी। 
    लड़का:-    कुछ देर बाद देख लीजिए काम अच्छे से किया है                        कि नहीं। 
    मालकिन:- वाह! बेटा तुमने तो बहुत अच्छे से सफाई की है,                          गमले भी अच्छे से लगाए हैं यहां बैठ मैं खाना                             लाती हूं। मालकिन जैसे ही खाना लेकर आई                              लड़का पन्नी में खाना डालने लगा। 
    मालकिन:-  बेटा भूखे रहते हुए काम किया है अब खाना तो                           यहीं पर ही बैठ कर खा ले,  जरूरत होने पर और                        दे दूंगी। 

self value😎😎😎

खुद की कीमत (सेल्फ वैल्यू)  दुनिया में हर चीज की कीमत होती हैं , यह बात सब को पता है।  हर चीज की कीमत भी तय की जा सकती हैं , कीमत बदली भी  ज...