पोस्ट

अक्तूबर, 2019 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वीर चक्र विजेता भागकर की गौरव गाथा। कारगिल युद्ध 12 जून 1999

वीर चक्र विजेता भागकर की गौरव गाथा, करगिल युद्ध में सबसे पहले 12 जून 1999 की रात को जीती थी तोलोलिंग पहाड़ी।
सेना का प्रक्रम देख तोलोलिंग से भाग छुटे थे पाकिस्तानी। करगिल युद्ध में 1999 में तोलोलिंग पहाड़ी को दुश्मनों से मुक्त करवाते समय शहीद हुए। वो रावण के वीर चक्र विजेता सूबेदार भंवरलाल भाकर के 21 वें शहादत दिवस पर उनके ग्राम रेवड़ी में, शहीद स्मारक पर श्रद्धांजलि सभा होगी भागकर दो राजपूताना रायफल्स में सूबेदार थे। उन्होंने 12 जून 1999 की रात तोलोलिंग पर दुश्मनो के बंकरों को नष्ट कर अद्भुत शौर्य दिखाया था।
तोलोलिंग की पहाड़ी पर तिरंगा फहराने वाले शहीद भंवरलाल भागकर के साथी झुंझुनूँ हॉल जयपुर निवासी नायक दिगेंद्र, कुमार ने बताया कि हमारी टुकड़ी में 10 जवान शामिल थे। 1999 में, कारगिल की पहाड़ियों पर खड़े लड़े गये। युद्ध मे पाक सेना पहाड़ी चोटी से तथा भारत की सेना जमीन से युद्ध कर रही थी, भारत की तरफ से लगभग 80 सैनिक फॉलो लिंक पहाड़ी मुक्त करवाने के प्रयास में वीर गति को प्राप्त हो चुके थे।
ऐसे में तत्कालीन जनरल ने पहाड़ी को जीतने का टास्क टू राजपूताना राइफल्स को दिया बटालियन ने, कर्…

म्यूच्यूअल फंड पर मिल सकता है कर्ज!

क्या आप जानते हैं कि म्यूचुअल फंड में अपने निवेश पर कर्ज भी ले सकते हैं। जानिए विस्तार से।
( कभी आपको अचानक पैसों की जरूरत पड़ जाए तो चिंता करने की जरूरत नहीं है। अगर आपके पास म्यूच्यूअल फंड है तो आपकी परेशानी सुलझ सकती है। जरूरत पड़ने पर म्यूचल फंड की यूनिट के एवज में कर्ज ले सकते हैं। कैसे और किन आधार पर कर लिया जा सकता है यह सभी जानकारी इस लेख में है।
 •कैसे मिलता है कर्ज?    जिस प्रकार अन्य संपत्ति के बदले कर्ज लिया जाता है उसी तरह    म्यूचुअल फंड के बदले कर्ज भी लिया जा सकता है । इसके लिए बैंक में आवेदन पत्र भरकर देना होता है। इसमें निवेशक फोलियो नंबर म्यूच्यूअल फंड योजना का नाम और यूनिट की संख्या अधिक जानकारी देता है। आवेदन पत्र मिलने पर इसे फंड के पंजीयक को ग्रहण अधिकार अंकन के लिए भेजा जाता है। बैंक आपके म्यूच्यूअल फंड यूनिट की कीमत की गणना करने के बाद कर्ज की रकम निकालता है।  आपके क्रेडिट स्कोर को और कर्ज चुकाने की क्षमता को भी देखा जाता है। 
किस आधार पर मिलता है कर्ज म्यूच्यूअल फंड यूनिट के आधार पर बैंक ऋण की मंजूरी देता है । आमतौर पर म्यूचुअल फंड के प्रकार पर ऋण निर्धारित …

आधार से लिंक होगी प्रॉपर्टी

देश में पहली बार संपत्ति स्वामित्व का मॉडल कानून बनेगा, ड्राफ्ट तैयार जल्द कैबिनेट में आएगा; जमीन, मकान या फ्लैट की खरीद - फरोख्त में फर्जीवाड़ा रोकने और बेनामी संपत्ति का पता लगाने में आसानी होगी।   केंद्र सरकार मॉडल कानून बनाकर राज्यों को भेजेगी, वही लागू करेंगे अचल संपत्ति के स्वामित्व के लिए अब उसे आधार से लिंक कराना होगा। केंद्र सरकार पहली बार संपत्ति के स्वामित्व के लिए कानून ला रही है। ड्राफ्ट तैयार हो चुका है। 5 सदस्यों की एक्सपर्ट कमेटी भी बन चुकी है जो राज्यों में समन्वय करेगी। जमीन से जुड़े मामले राज्यों के अधिकार क्षेत्र में है, इसलिए केंद्र मॉडल कानून बनाकर राज्यों को देगा। 19 राज्यों में एनडीए की सरकार है। संभव है कि ज्यादातर राज्यों में कानून लागू हो जाएगा। नए कानून से संपत्ति की खरीद-फरोख्त में फर्जीवाड़ा रुकेगा। बेनामी संपत्तियों का भी खुलासा होगा। जो व्यक्ति अचल संपत्ति आधार से लिंक कर आएगा, उसकी संपत्ति पर कब्जा होता है तो उसे छुड़ाना सरकार की जिम्मेदारी होगी या फिर सरकार मुआवजा देगी। आधार लिंक नहीं कराने पर सरकार जिम्मेदारी नहीं लेगी। 

नए मॉडल कानून के फायदों के …

5 दिवसीय महापर्व का पहला दिन धनतेरस आज और कल तो अरुण चतुर्दशी वह दिवाली एक साथ

महालक्ष्मी की आराधना का पर्व दीपावली हर्षोल्लास से मनाने की तैयारियां पूरी हो गई है। पांच दिवसीय दीपोत्सव शुक्रवार से शुरू होगा। दीपोत्सव के इस त्योहार दिवाली पर इस बार कहीं अनूठे संयोग को का संगम होगा धनतेरस इस बार 2 दिन रहेगी इसके बाद रूप चतुर्दशी वे दिवाली 27 अक्टूबर को मनाई जाएगी। ज्योतिषियों के अनुसार पांच दिवसीय दीपोत्सव में इस बार धनतेरस शुक्रवार शाम से शुरू होगी। कारण कि इस दिन द्वादशी प्रीति शाम 7:11 बजे तक है ऐसे में इसके बाद शुरू होगी, जो शनिवार को दोपहर 3:50 बजे तक रहेगी। दोनों दिन खरीदारी के लिए सबसे शुभ रहेंगे। इस दिन सोने चांदी की कोई चीज या नए बर्तन खरीदने को शुभ माना गया है। मान्यता है कि इस दिन मां लक्ष्मी के साथ धन्वंतरी और कुबेर की पूजा की जानी चाहिए। क्योंकि कुबेर का जोड़ घटाव रखने वाले हैं तो वहीं धनवंतरी ब्रह्मांड के सबसे बड़े वेद है। इस बार 27 अक्टूबर को रूप चतुर्दशी है दिवाली एक ही दिन मनाई जाएगी। धनतेरस के चलते बाजार में चहल-पहल बढ़ी है। घरों में बिजली की रंग-बिरंगी रोशनी से सजावट की जा रही है। इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटोमोबाइल, रेडीमेड गारमेंट, बर्तनों की दुकान और …