सोमवार, 24 फ़रवरी 2020

भारत दौरे पर अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप आए और क्या कहा हमारे देश के लिए देखें

पहली बार भारत में किसी राष्ट्राध्यक्ष का सवाल आप लोगों ने स्वागत किया ट्रम्प पहले अमेरिकी जिनका दुनिया में कहीं ऐसा स्वागत हुआ






गदगद ट्रिप बोले भारत एक आर्थिक महाशक्ति बन चुका है अमेरिका मिलकर कट्टर इस्लामिक आतंकवाद से निकलेगा






अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सोमवार को परिवार समेत भारत पहुंचे अहमदाबाद एयरपोर्ट से दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम तक जबरदस्त स्वागत से गदगद ट्रंप जब भीड़ को संबोधित करने उठे तो सबसे पहले भारतीय संस्कृति से खुद को बेहद प्रभावित बताया साथ ही कहा भारत एक आर्थिक महाशक्ति बन चुका है उसके बाद मोदी भारत अमेरिका से दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे तब जिक्र करते रहे सवा लाख लोगों से भरे स्टेडियम में सबसे ज्यादा तालियां तब बजे जब ट्रंप ने इस्लामिक आतंकवाद का मुद्दा उठाया शाम को ट्रंप परिवार आगरा में ताजमहल देखने पहुंचा मंगलवार को राष्ट्रपति भवन में ट्रंप का  अधिकारिक स्वागत होगा। 





स्टेडियम में 26 मिनट बोले ट्रंप इसमें 7 मिनट मोदी और भारत सरकार की तारीफ

 7 मिनट मोदी भारत सरकार पर

मोदी दिन रात काम करते हैं भारत आर्थिक महाशक्ति बना
कहां मोदी दिन रात काम करते हैं जीवन की शुरुआत चाय वाले के तौर पर कि हर कोई उन्हें पसंद करता है लेकिन वह काफी कठोर है वह इसके जीवंत उदाहरण है कि कड़ी मेहनत से भारतीय जो चाहे हासिल कर सकते हैं 70 साल में भारत आर्थिक महाशक्ति सबसे बड़ा लोकतंत्र और करिश्माई देश बन गया है। 

 6 मिनट कारोबारी रिश्ते पर

अमेरिका भारत को बेहतरीन सैन्य उपकरण बेचना चाहता है
कहां अमेरिकी सेना इतनी मजबूत कभी नहीं रही सेना पर 2.5 ट्रिलियन डॉलर खर्च किए हैं भारत के साथ रिश्ते सशक्त बनाने पर मैं और प्रधानमंत्री महोदय महत्वपूर्ण चर्चा करेंगे अमेरिका चाहता है कि भारत को दुनिया के सबसे बेहतर सैन्य उपकरण बेचे हम भारत के साथ डील कर रहे हैं हम सबसे उत्तम हेलीकॉप्टर देंगे। 

 4 मिनट संस्कृति महापुरुषों पर

स्वामी विवेकानंद से लेकर बॉलीवुड तक का जिक्र किया
कहां स्वामी विवेकानंद कहते थे कि जब मैं भी व्यक्ति के समक्ष श्रद्धा से खड़ा होता हूं और उसके अंदर भगवान देखता हूं उसी वक्त में मुक्त होता हूं दुनिया भर के लोग भंगड़ा डांस रोमांस ड्रामा डीडीएलजे जैसी क्लासिक फिल्मों का आनंद लेते हैं यहां सचिन तेंदुलकर से लेकर विराट कोहली तक महानतम क्रिकेटर है। 

 3 मिनट आतंकवाद पर

चरमपंथ और आतंकवादियों के लिए हमारी सीमाएं बंद है
कहां भारत और अमेरिका कट्टर इस्लामिक आतंकवाद से अपने नागरिकों की सुरक्षा के लिए प्रतिबंध है दोनों देशों ने आतंकवाद का दंश झेला है लेकिन अब चरमपंथ और आतंकवादियों के लिए हमारी सीमाएं पूरी तरह बंद है इसलिए हमने प्रवेश के आवेदनों की स्क्रीनिंग और पड़ताल का ऐतिहासिक फैसला लिया है। 

ट्रंप ने 10 बार मोदी 40 बार इंडिया 22 बार इंडियन शब्द का इस्तेमाल किया। उन्होंने सरदार पटेल स्वर्ण मंदिर गंगा जामा मस्जिद बॉलीवुड डीडीएलजे शोले महात्मा गांधी दिवाली और होली का भी जिक्र किया करीब 1 मिनट तक उन्होंने भारतीय मूल के अमेरिकियों की तारीफ की। 

बापू के बंदरों से शांति का संदेश




गांधी आश्रम में मोदी ने ट्रंप और मेलानिया को गांधी जी के संदेश से अवगत कराया यानी 'बुरा मत बोलो बुरा मत देखो बुरा मत सुनो।'





 लेकिन गांधी का जिक्र नहीं ट्रंप ने गांधी आश्रम की विजिटर बुक में लिखालिखा- शुक्रिया प्रधानमंत्री मोदी
ब्रिटिश अखबार द सन में हस्ताक्षर के अध्ययन के आधार पर ट्रंप के व्यक्तित्व पर एक रिपोर्ट छपी है इसमें ब्रिटिश इंस्टीट्यूट ऑफ ग्राफ़ोलॉजिस्ट 10 की प्रोफेसर ट्रेसी ट्रस्टल ने आंख का है कि ट्रंप अति महत्वाकांक्षी निरंतर सोचने वाले और निडर किस्म के हैं उनमें ताकत हासिल करने की जबरदस्त भूख है जिद्दी है इसलिए सख्त नेगोशिएटर भी है



शनिवार, 22 फ़रवरी 2020

Google Assistant क्या है और कैसे यूज करते हैं आइए जानते हैं।

लाइफ ऑर्गेनाइज करने के लिए कामले गूगल असिस्टेंट

Google Assistant   क्या है और कैसे यूज करते हैं आइए जानते हैं। 
गूगल असिस्टेंट आप अपने यूजर्स के लिए स्मार्ट स्पीकर से नहीं बल्कि स्मार्ट होम डिवाइसेज और स्मार्टफोंस में मौजूद है और दुनिया भर में मॉडर्न होम्स में अपनी एक खास जगह बना चुका है यह असिस्टेंट युद्ध के जनरल नॉलेज के सवालों का जवाब देने से लेकर आपकी ईमेल चेक करने और अपॉइंटमेंट याद दिलाने तक कोई तरीके काम कर सकता है उदाहरण के लिए अगर टाइल ट्रैकर का इस्तेमाल करते हैं तो गूगल असिस्टेंट की मदद से अपनी चाबी वॉलेट और यहां तक कि फोन को भी आसानी से ढूंढ सकते हैं साफ है कि एआई की मदद से गूगल असिस्टेंट अब हर दिन खुद को बेहतर और ज्यादा यूज़फुल बनाता जा रहा है ऐसे में अगर आप गूगल असिस्टेंट के नए यूजर है या इसके लेटेस्ट फीचर्स के बारे में जानना चाहते हैं तो यह गाइड आपके लिए मददगार होगी। 



रोजमर्रा के काम में ले सकते हैं मदद

कैलेंडर में इवेंट्स चेक करने से लेकर शॉपिंग लिस्ट बनाने तक गूगल असिस्टेंट आप के लिए एक पर्सनल आर के तौर पर काम कर सकता है उदाहरण के तौर पर इससे आप पूछ सकते हैं कि दिन में आपके कौन-कौन से इवेंट्स है और कब है इसी तरह अगर आप दिन में बेहद व्यस्त है और ट्विटर की लेटेस्ट स्टोरीज को ब्राउज़ करने का समय नहीं निकाल पा रहा है तो गूगल असिस्टेंट आपको यह पढ़कर भी सुना सकता है कि इतना ही नहीं आप इसे कभी भी अपनी पसंदीदा मीडिया साइट पर न्यूज़ प्ले स्टोर या पोज करने के लिए कह सकते हैं और काम करते-करते खुद को अपडेट रख सकते हैं। 



सफर में भी  करता है बड़ी सहायता

सफर में गूगल असिस्टेंट को काम में लेने का सबसे आसान तरीका है इसे गूगल मैप्स के साथ इस्तेमाल करना अगर आप आईफोन यूजर हैं तो इससे पहले ऐप स्टोर से डाउनलोड करें उदाहरण के लिए अगर आप ऑफिस से घर जाने के लिए सबसे अच्छा रास्ता जानने के लिए इसकी मदद लेना चाहे तो आपको ऐप में अपने घर का एड्रेस ओम नाम से सेव करके रखना होगा यह कर लेने के बाद आप जब भी गूगल असिस्टेंट को टेक  मी होम का कमांड देंगे तो वह आपको गूगल मैप्स से जानकारी इकट्ठा कर बेस्ट रूट की जानकारी दे देगा यह आपको ट्रेफिक अपडेट्स और बंद रास्तों के बारे में अभी बताता है। 



 स्मार्ट होम को करें कंट्रोल

गूगल असिस्टेंट का सबसे महत्वपूर्ण रोल है आपकी स्मार्टफोन को कंट्रोल करना आपके कनेक्टेड लाइट बल्ब्स स्मार्ट धर्म स्टेट और यहां तक कि आउटडोर सिक्योरिटी कैमरा के लिए एक सिंगल वॉइस एक्टीवेटेड अब की तरह काम करना और हां आप अपने स्मार्टफोन में मौजूद गूगल असिस्टेंट ऐप से गूगल होम स्पीकर से या अपने एंड्राइड टीवी से सभी कनेक्टेड डिवाइसेज को कमांड दे सकते हैं ऐसे कई ब्रांड है जो इस असिस्टेंट के लिए काम करते हैं जैसे फुले हो लाइट बल्ब्स नियर टो रोबोट वैक्युम्स और गूगल की नेस्ट कंपनी के नेस्ट थर्मोस्टेट और नेस्ट केम आईक्यू। 



यह डिवाइसेज करते हैं सपोर्ट

अधिकतर यूजर्स यह मानते हैं कि गूगल असिस्टेंट एक ऐसी सर्विस है जो केवल स्मार्टफोंस के लिए ही उपलब्ध है अगर आप भी यही मानते हैं कि तो आप सही नहीं है असल में गूगल असिस्टेंट आपको गूगल होम के स्पीकर की रेट जैसे गूगल होम मिनी गूगल होम एक्स और स्मार्ट डिस्पलेज जैसे गूगल होम हब और गूगल नेक्स्ट हम मैक्स पर भी अपनी सर्विसेज देता है इसके साथ ही है थर्ड पार्टी डिवाइसेज की बड़ी रेंज जैसे कि सोनू सोनी स्पीकर, द टिक्वॉच e2 स्मार्ट वॉच आदि के साथ भी आता है इसके अतिरिक्त कुछ कोर्स में भी गूगल असिस्टेंट built-in होता है


 रिमोट उठाए बिना चलाएं टेलीविजन

तकनीक की इस दुनिया में क्या नहीं हो सकता अगर आप अपने टेलीविजन को खत्म करने के लिए रिमोट जैसे डिवाइस भीड़ से छुटकारा पाना चाहते हैं तो गूगल असिस्टेंट आपकी मदद कर सकता है आपको अपना टीवी क्रोमकास्ट डोंगलिया built-in क्रोमकास्ट सॉफ्टवेयर की मदद से चलाना होगा ऐसा करके आप अपने स्मार्टफोन टेबलेट या गूगल होम स्पीकर को प्रमाण देकर टीवी को कंट्रोल कर सकते हैं अगर आपके पास एनडीटीवी है तो आप कोई भी प्रोग्राम प्ले अपोज करने टीवी को ऑन ऑफ करने और यहां तक कि नेटफ्लिक्स और युटुब जैसे एप्स चलाने के लिए रिमोट को बोलकर कमांड दे सकते हैं अगर आपके अकाउंट में माइक्रोफोन नहीं है तो आपको यह कमांड्स अपने स्मार्टफोन में मौजूद असिस्टेंट को या गूगल होम स्पीकर को देनी होगी


 गूगल असिस्टेंट
 अपडेट्स

•गूगल असिस्टेंट को ब्लूटूथ ट्रैकर टाइल के साथ जुड़े अब टाइम से अटैच किसी भी चीज जैसे चाबी को ढूंढने के लिए आपको अपने स्मार्ट स्पीकर को आवाज देकर उसे ढूंढने को कहना होगा। 

•गूगल के पहले वायरलेस ईयर बर्ड्स जल्दी आएंगे जिनकी मदद से गूगल असिस्टेंट का हैंड्स फ्री एक्सेस मिलेगा। 

•लिस्ट क्रिएट करने और नोट्स बनाने में अब गूगल असिस्टेंट बेहतर तरीके से सपोर्ट करेगा इसके लिए यह गूगल कीप एनी टू एनी लिस्ट जैसे थर्ड पार्टी एप्स के साथ आने की तैयारी कर रहा है


रविवार, 16 फ़रवरी 2020

Best 10 Smartphone under 10000 in india

   एंट्री लेवल स्मार्टफोंस जो आपकी जेब

  पर नहीं पड़ेंगे भारी



Best Smartphone under 10000 in india
अभी स्मार्टफोन लगभग हर आदमी की जरूरत बन चुका है, लेकिन फिर भी आमतौर पर यूजर्स के बीच एक आम धारणा यह रहती है कि इनकी कीमत ₹10000 से शुरू होती है। हालांकि ऐसा इसलिए भी है कि इससे कम कीमत के फोन मार्केट में नजर भी कम ही आते हैं। ऐसे में कंजूमर उसके लिए इससे कम प्राइस रेंज का फोन खरीदना बहुत मुश्किल हो जाता है। अगर आप भी एक बजट फोन खरीदने की अपनी प्लानिंग को इसी वजह से पूरा नहीं कर पा रहे हैं तो आपको यह जानकर खुशी होगी कि ऐसे कई मॉडल्स है जिन्हें आप साडे ₹7,500 की प्राइस रेंज के अंदर खरीद सकते हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि इस लिस्ट में आपको 4GB रैम और 64GB इंटरनल स्टोरेज जैसे फीचर्स और बेहतरीन स्टाइल वाले फोन भी मिल जाएंगे। यहां ऐसे ही कुछ मॉडल्स के फीचर्स और उनकी कीमतों के बारे में जानकारी शेयर की जा रही है, आप भी जानिए-


 Motorola Moto E6s



इस प्राइस रेंज में केवल यही एक ऐसा कौन है जो आपको 4GB रैम और 64GB इंटरनल स्टोरेज देता है। तो अगर आप एक ही समय में कई एप्स रन करना चाहते हैं तो यह आपके लिए एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है। इसके अलावा इसमें आपको मीडियाटेक हेलिओ p22 ऑक्टा कोर एसओसी 6 पॉइंट 1 इंच एचडी डिस्पले और पीछे की ओर 13mp प्लस 2mp कैमरा सेटअप और 8mp का फ्रंट कैमरा मिलता है। मोटो g6s एंड्राइड पाइपर रन करता है जो ओरिजिनल एंड्राइड यू आई से मिलता जुलता है। इसकी 3000 एमएच बैटरी अन्य फोंस के मुकाबले कुछ कमजोर हो सकती है लेकिन एक वर्किंग डे की बैटरी लाइफ इसमें आपको मिल सकती है।
                                               कीमत फ्लिपकार्ट पर 6999



 रियलमी 3



लगभग 1 साल पुराना रियल में 3 इस बजट में एक अच्छा ऑप्शन हो सकता है। इस स्टाइलिश फोन में आपको ड्रॉप नोच के साथ सिक्स पॉइंट 22 इंच एचडी प्लस डिस्पले और कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास की सुरक्षा मिलती है। साथ ही मीडिया टेक हेलिओ p70 की प्रोसेसिंग पावर और 13 एमपी प्लस 2mp डुएल बैक कैमरा सेटअप 13mp का फ्रंट कैमरा मिलता है। एक प्रभावशाली प्रोसेसर और एचडी प्लस स्क्रीन के अलावा इसकी 4230 एमएच बैटरी आपको सामान्य कामकाज के लिए दिनभर की बैटरी लाइफ उपलब्ध करवाती है।  यह फोन एंड्रॉयड पाई ओएस और कलर S6 पर रन करता है। इस बजट फोन में आपको इसमें 3GB रैम और 32GB स्टोरेज मिलते हैं।
                                               कीमत फ्लिपकार्ट पर 7499




 Nokia 4.2




यह एक अच्छा बजट फोन है जो कि अपने ब्रांड के दूसरे फोन की तुलना में लाइमलाइट से दूर रहा है। अगर आप तेजी से बढ़ते स्क्रीन साइज के जमाने में एक कंपैक्ट फोन की तलाश कर रहे हैं तो नोकिया 4.2 आपके लिए है। ड्रॉप नोच वाले 5 पॉइंट 7 इंच एचडी प्लस डिस्पले और ग्लास बैक के साथ आपको इसमें प्रभावी स्नैपड्रेगन 439 चिपका पावर मिलता है। इस लिस्ट के दूसरे फोन की तरह इसमें भी आपको 13mp प्लस 2mp का रीयर कैमरा मिलता है। इस हैंडसेट का एक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि यह android-1 डिवाइस है। इसमें आपको लॉन्च के लिए 2 साल तक स्टॉक एंड्राइड यूआई और रेगुलर एक्सप्रेस सिक्योरिटी अपडेट मिलती है। फिलहाल एंड्राइड पाइपर रन करने वाले इस फोन में आपको 3GB रैम और 32जीबी (400gb तक एक्सपेंडेबल) स्टोरेज मिलता है।
                                                 कीमत अमेजॉन पर 6718



आसुस जेनफोन मैक्स M2



6. 26 inch HD notch display 1,520 x 720 resolution top per 2.5 D glass ke sath Aane Wala yah phone Qualcomm Snapdragon 632 एसओसी प्रोसेसर के साथ आता है जिस वजह से यह इस प्राइस रेंज में एक मजबूत ऑप्शन बन जाता है। इसमें आपको ओरिजिनल एंड्राइड यू आई मिलेगा। यह ओरियो 8.1 के साथ लांच किया गया था, हालांकि बाद में इसके लिए एंड्रॉयड पाई अपडेट लाई गई है। इसके चलते आपको हैंडसेट में एंड्रॉयड पाई मिल सकता है। इसके अलावा इसमें आपको 13mp प्लस 2mp कार्ड इन रियल कैमरा मिलता है जो सामान्य लाइटिंग में भी अच्छे इफेक्ट देता है, वही सेल्फी के लिए आपको 8mp का फ्रंट कैमरा मिलता है। जहां तक बैटरी लाइफ की बात है तो इसमें आपको 4000 एमएच की बैटरी क्षमता मिलती है जिससे आप बिना चार्जर साथ रखें सामान्य इस्तेमाल के साथ 1 दिन चला सकते हैं। इसमें आपको 3GB रैम और 32जीबी इंटरनल स्टोरेज मिलता है जिसे आप माइक्रोएसडी कार्ड की मदद से 2tb तक एक्सप्लेन कर सकते हैं।
                                               कीमत फ्लिपकार्ट पर 7499

गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020

इस साल कोई नहीं मनाएगा 14 February ko Valentine Day Kyunki

       14 February Black Day 2019

छुट्टी से लौट रहे थे, जवान तभी कार से हुई टक्कर बस के हो गए थे? 
चिथड़े- चिथड़े.... आइए एक बार फिर नमन करते हैं उन 40 वीर जवानों को जिन्होंने पुलवामा हमले में अपनी जान गवा दी। इस साल कोई नहीं मनाएगा 14 February ko Valentine Day Kyunki


आइए जानते हैं क्या हुआ 14 फरवरी 2019 को पुलवामा हमले में

 जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले में जो हमला हुआ आज 1 साल होने को है 14 जनवरी 2019 को नेशनल हाईवे पर आतंकी हमला हुआ था जिसमें हमारे 40 जवान शहीद हो गए थे हमला जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपोरा के  पास  लेंथपोरा में हुआ था। जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित इस्लामिक आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।  हालांकि, पाकिस्तान ने हमले की निंदा की थी और जिम्मेदारी लेने से इनकार कर दिया था।


14 फरवरी 2019 को सीआरपीएफ का काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था। सीआरपीएफ के लगभग 25 जवान 78 गाड़ियों में सवार थे। इनमें ज्यादातर जवान हुए थे जब छुट्टी से वापस ड्यूटी पर लौटे थे। 
 काफिला जब जम्मू-कश्मीर Highway per awantipura  इलाके के पास pahuncha तभी 3:15 बजे 100 किलो विस्फोटक से भरी हुई कार काफिला के बीच जाकर बस से जा टकराई। 

टक्कर से इतना जोरदार धमाका हुआ कि बस के चिथड़े- चिथड़े उड़ गए और बस में सवार जवान शहीद हो गए। धमाका इतना तेज था कि धमाके की आवाज 10 किलोमीटर दूर तक सुनाई दी थी जिसके कारण बाजार के सभी लोग अपनी दुकानों केे शटर डाउन करके भाग गए थेे।  विस्फोटक से भरी कार ने जवानों सेेेेे भरी हुई पांचवी बस को बाईं ओर से टक्कर मारी जिससे पास वाली बस  भी क्षतिग्रस्त हुई । 
 कार सवार व्यक्ति पुलवामा का ही रहने वाला था जिसने 2018 में ही जैसे मोहम्मद संगठन में शामिल होकर  इस हमले को अंजाम दिया। 


मेरी नजर में सबसे बड़ा देशद्रोही वह है जो 14 फरवरी   को शहीदी दिवस छोड़कर वैलेंटाइन डे मनाएगा। 

शनिवार, 1 फ़रवरी 2020

वर्दी में गद्दार

वर्दी में गद्दार:फौज में 1 साल में ही पकड़े गए तेरा जासूस

 वर्दी में गद्दार हाल ही में देश तब सकते में आ गया है, जब जम्मू-कश्मीर पुलिस का डीएसपी देवेंद्र सिंह आतंकियों के साथ पकड़ा गया। इसके पुलवामा हमले तक में शामिल होने की बात कही जा रही है। भास्कर ने देवेंद्र जैसे अन्य वर्दी धारी गद्दारों की पड़ताल की तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए पिछले 9 वर्षों में 32 सैन्य कर्मी और बीएसएफ के जवान पाकिस्तान के लिए जासूसी करते पकड़े गए या पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के हनी ट्रैप में फंसे इनमें से अधिकांश मामले में यह जवानी स्मार्टफोन और सोशल मीडिया के चक्कर में फंसे हैं। जासूसी के आरोप में पकड़े गए इन सर्विस पर्सनल में 15 आर्मी के साथ नेवी के और दो एयरफोर्स के हैं। इनके अलावा डीआरडीओ की नागपुर स्थित ब्रह्मोस मिसाइल यूनिट का इंजीनियर सिविल डिफेंस का एक बीएफ के 4 जवान और 3 एक्स सर्विसमैन शामिल है। इस बात पर चिंता जाहिर करते हुए सेना के रिटायर्ड ब्रिगेडियर रविंद्र कुमार बताते हैं। कि रिक्रूटमेंट के समय से ही दुश्मनों की नजर जवानों पर रहती है। कुछ लोग पहले से आतंकियों में आईएसआई के संपर्क में होते हैं। यह सेना में भर्ती हो जाते हैं। जिनका पता नहीं चलता परंतु अधिकांश लोग हनीट्रैप के जरिए निशाना बनाए जाते हैं। पुलिस में पैरामिलिट्री फोर्स की बजाय उनके टारगेट पर होती है। इसलिए ज्यादा गद्दार सेना से निकलते हैं ब्रिगेडियर रविंद्र कहते हैं। कि कश्मीर है नक्सल प्रभावित जगह पर पुलिस पर लोकल राजनीति का असर ज्यादा होता है और वही पैरा मिलिट्री फोर्स में डेपुटेशन पर आते हैं। परंतु आई एस आई हनी ट्रैप में इनोसेंट सैनिक आसानी से फंस जाते है। हालांकि 1500000 की फौज में गद्दारों की जिस तरह एक मछली पूरे तालाब को गंदा करती है। आदमी को मार देती है, फौजी अदालत है इसलिए ही सख्त मानी जाती है। 
 वर्दी में गद्दार




       समझिए इन्होंने देश का कितना नुकसान किया

1 महीने पहले ही पूर्व नौसेना कमान के साथ नेवी सेलर्स और एक हवाला कारोबारी को जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया था इनमें से विशाखापट्टनम के तीन नेवी सेलर्स राजेश निरंजन और लोक आनंद फेसबुक पर दो युवतियों की फेक आईडी पर परमाणु पनडुब्बी अरिहंत की सूचनाएं लीक कर रहे थे मुंबई में करवा में पकड़े गए चार नेवी सेलर्स एयरक्राफ्ट कैरियर विक्रमादित्य की सूचनाएं दे रहे थे
2 साल पहले डीआरडीओ की नागपुर स्थित ब्रह्मोस मिसाइल यूनिट का इंजीनियर निशांत अग्रवाल भी हनीट्रैप हो गया। उसे कनाडा में 30,000 यूएस डॉलर की नौकरी का भी लालच दिया था उसने तो मिसाइल स्टेट रे जी लिख करना शुरू कर दिया था। 
पिछले साल भर में हरियाणा में कुमाऊं रेजिमेंट का रविंद्र कुमार महू एमपी में 10 बिहार रेजीमेंट का नायक अविनाश कुमार जैसलमेर की टैंक रेजीमेंट का सोमवीर पोकरण में तैनात लांस नायक रवि वर्मा व सिपाही विचित्र बोहरा और कश्मीर में पोस्टिंग कर रहे मलकीत सिंह बी हनी ट्रैप में फंसे इनसे आई एस आई पोकरण में टैंक की ट्रायल युद्धाभ्यास सेना मूवमेंट की जानकारियां ले रही थी। 




                               दो बड़ी चिंता

पिछले 9 साल की बात करें तो वर्दी में छिपे गद्दारों की संख्या 32 है, जो खतरनाक है। 
इन्होंने परमाणु पनडुब्बी व मिसाइलों की संवेदनशील जानकारियां लिखी है। 

जैफ बेजॉस के जीवन की कहानी

नौकरी छोड़ ऑनलाइन बेचने लगे किताबे सफलता मिली तो जोड़ते चले गए नए प्रोडक्ट्स

जैफ बेजॉस के जीवन की कहानी जैफ बेजॉस का जन्म 12 जनवरी 1964 को अमेरिका के न्यू मैक्सिको में हुआ था। जब वह पैदा हुए तब उनकी मां जैकलिन हाई स्कूल में पढ़ाई कर रही थी, और उनकी उम्र केवल 17 साल थी। उनके पिता का नाम टेड जुर्गेनसेन था वह बाइक की दुकान के मालिक थे जेफ लेवल 18 महीने के थे। जब उनके पिता उन्हें और उनकी मां को छोड़ कर चले गए थे। इसके बाद कुछ साल तक उनकी मां ने उन्हें अकेले ही संभाला था। जब जब 4 साल के हुए तो उनकी मां ने मीगवेल  बेजोस से शादी कर ली इसके बाद जब अपना सरनेम   बेजोस लिखने लगे थे। उनका परिवार हॉस्टल रहने चला गया। जेब अपने खिलौनों के कल पुर्जे अलग कर देते थे और फिर जोड़ते थे। शुरू से ही अपनी उम्र के बच्चों से अलग थी। मुझे अपने रिवॉक्स एलिमेंट्री स्कूल से अपनी शुरुआती पढ़ाई की उन्होंने शुरू से ही खुद को टेक्नोलॉजी की दुनिया में साबित किया था। बचपन में अपने भाई बहन की सुरक्षा के लिए उन्होंने एक इलेक्ट्रिक अलार्म भी बनाया था। आगे चलकर उनका परिवार मियां में चला गया यहां से अपने पलमेटो हाई स्कूल में पढ़ाई शुरू की यहां उन्हें साइंस ट्रेनिंग प्रोग्राम में हिस्सा लेने का अवसर मिला। उन्हें 1982 में सिल्वर नाइट आउट से भी नवाजा गया था। जब अपनी कक्षा के सबसे बुद्धिमान छात्रों में से एक थे। स्कूल के दिनों से ही उनका ध्यान किताबों में रहता था। भेजो उसने प्रिंसटन यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस में बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री ली 1986 में ग्रेजुएट होने के बाद कंप्यूटर साइंस के क्षेत्र में ही वॉल स्ट्रीट में काम किया इसके बाद  उन्होंने फेटल नाम की कंपनी में भी काम किया कई और कंपनियों में काम करने के बाद उन्होंने खुद का व्यवसाय शुरू करने का मन बना लिया था। उन्होंने अमेरिका के कई शहरों की यात्रा की और लोगों को क्या चाहिए यह जानने की कोशिश की उन्हें सर्वे में पता चला कि इंटरनेट की मांग तेजी से बढ़ रही है यदि इसी क्षेत्र में व्यवसाय शुरू किया जाए तो सफलता मिलना तय है। 1964 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और घर के गैराज में ऑनलाइन व्यवसाय की तरफ अपना पहला कदम रखा, शुरुआत किताबें बेचने से की क्योंकि वह खुद किताबों के शौकीन थे। उन्होंने तीन कंप्यूटर और कुछ कर्मचारियों के साथ कंपनी की शुरुआत की माता-पिता ने भी अपनी तरफ से उनकी पूरी मदद की हालांकि उस व्यक्ति उन्हें जेब का बिजनेस मॉडल समझ में नहीं आ रहा था। लेकिन उन्हें अपने बेटे पर पूरा भरोसा था जैफ बेजॉस  अपने अपनी कंपनी का नाम कड़ेब्रा  रखा फिर कुछ महीनों में उसे बदलकर   reliant less.com कर दिया लेकिन यह नाम भी उनके दोस्तों को पसंद नहीं आया 1995 में अंततः उन्होंने अपनी कंपनी का नाम बदलकर अमेजॉन रख लिया। जो मेरी का की एक नदी पर आधारित था 2 महीनों में ही अमेजॉन ने 45 से अधिक किताबें भेज दी थी। कुछ ही समय में उनकी हर हफ्ते की बिक्री करीब 20,000 अमेरिकन डॉलर्स हो गई थी बस यही से जेब और उनकी कंपनी अमेजॉन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा आगे चलकर अमेजॉन पर अनगिनत सामान की लिस्टिंग की गई जिसके बाद अमेजॉन बन गई दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन शॉपिंग साइट। 



जैफ बेजॉस के जीवन की कहानी

































1 जैफ बेजॉस के जीवन की कहानी


नाम जैफ बेजॉस पैसा अमेजॉन के सीईओ नेटवर्क 121 अरब यूएस डॉलर अनुमानित इनके बारे में इसलिए पड़े हाल ही में अपना 56 वा जन्मदिन मनाया पिछले दिनों भारत में थे। 




 इनके जीवन से मिली यह सीख। 
 परफेक्ट लाइफ जैसी कोई चीज नहीं है। 
अविष्कार करना भविष्यवाणी करने से ज्यादा आसान है। 
 केंद्र में हमेशा ग्राहक होना चाहिए। 

self value😎😎😎

खुद की कीमत (सेल्फ वैल्यू)  दुनिया में हर चीज की कीमत होती हैं , यह बात सब को पता है।  हर चीज की कीमत भी तय की जा सकती हैं , कीमत बदली भी  ज...