वीर चक्र विजेता भागकर की गौरव गाथा। कारगिल युद्ध 12 जून 1999

वीर चक्र विजेता भागकर की गौरव गाथा, करगिल युद्ध में सबसे पहले 12 जून 1999 की रात को जीती थी तोलोलिंग पहाड़ी।
सेना का प्रक्रम देख तोलोलिंग से भाग छुटे थे पाकिस्तानी। करगिल युद्ध में 1999 में तोलोलिंग पहाड़ी को दुश्मनों से मुक्त करवाते समय शहीद हुए। वो रावण के वीर चक्र विजेता सूबेदार भंवरलाल भाकर के 21 वें शहादत दिवस पर उनके ग्राम रेवड़ी में, शहीद स्मारक पर श्रद्धांजलि सभा होगी भागकर दो राजपूताना रायफल्स में सूबेदार थे। उन्होंने 12 जून 1999 की रात तोलोलिंग पर दुश्मनो के बंकरों को नष्ट कर अद्भुत शौर्य दिखाया था।
तोलोलिंग की पहाड़ी पर तिरंगा फहराने वाले शहीद भंवरलाल भागकर के साथी झुंझुनूँ हॉल जयपुर निवासी नायक दिगेंद्र, कुमार ने बताया कि हमारी टुकड़ी में 10 जवान शामिल थे। 1999 में, कारगिल की पहाड़ियों पर खड़े लड़े गये। युद्ध मे पाक सेना पहाड़ी चोटी से तथा भारत की सेना जमीन से युद्ध कर रही थी, भारत की तरफ से लगभग 80 सैनिक फॉलो लिंक पहाड़ी मुक्त करवाने के प्रयास में वीर गति को प्राप्त हो चुके थे।
ऐसे में तत्कालीन जनरल ने पहाड़ी को जीतने का टास्क टू राजपूताना राइफल्स को दिया बटालियन ने, कर्…

सीएम अशोक गहलोत के दो बड़े ऐलान।

सार्वजनिक जगह धोका तो केस करो ना से मौत पर 11 तरह के कर्मियों के आश्रितों को 50 लाख देंगे। 


कोरोना के बढ़ते कहर के बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को दो बड़े ऐलान किए। पहला - सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर रोक लगा दी है। हालांकि गुटखा, पान मसाला आदि पर पूरी रोक तो नहीं लगाई। है इन आदेशों की अवहेलना की स्थिति में संबंधित के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत दंडात्मक कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। दूसरा अब प्रदेश के कांस्टेबल पटवारी, ग्राम सेवक सहित 11 तरह के कर्मचारियों, कोरोना की रोकथाम, के दौरान संक्रमित होने, से, मौत पर, उनके आश्रितों को 50 पचास लाख रुपये की, आर्थिक मदद दी जाएगी। अभी केंद्र के निर्देश के अनुसार केवल स्वास्थ्य कर्मियों, के लिए ही 50 लाख रूपये का बिल में तय किया, गया था, जिसका दायरा राज्य सरकार ने बढ़ा। दिया हालांकि शिक्षित वर्ग में इस को लेकर सवाल, है, कि उनकों इस दायरे में बाहर क्यों रखा गया, सार्वजनिक जगह पर ठोकने, पर, रोक, के संबंध, में शुक्रवार, को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित, कुमार, सिंह, ने, अधिसूचना जारी की जो इसी वक्त से प्रभावी मानी जायेगी।


सभी राज्य कर्मी संविदाकर्मी और मानदेय कर्मी होंगे लाभान्वित।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को बताया। कि केंद्र सरकार के बीमा कवर का दायरा बढ़ाते हुए राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य कर्मियों, के अलावा अन्य सभी राज्य कर्मचारियों (पटवारी, ग्राम सेवक, कांस्टेबल आदि) संविदा कर्मचारी (सफाई कर्मचारी, स्वास्थ्य कर्मचारी आदि) एवं मानदेय कर्मचारी, होमगार्ड, सिविल डिफेंस आशा सहयोगिनि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी सहायिका मिलनी आशा इत्यादि को इसके दायरे में लाया। गया है 50 लाख रुपये की यह बीमा राशी मृत्य कर्मचारियों, के आश्रित हो या परिवार को दी जायेगी।


कुरो ना संक्रमण रोकने के लिए यहां वहां टूटने की आदत पर कड़ी पाबंदी जरूरी है, रोहित सिंह।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार, सिंह ने बताया। कि व्यापक लोकहित में, राजस्थान एपिडेमिक डीजीजेजएक्ट 1957 की धारा 2 में, प्रदत शक्तियों का प्रयोग करते हुए थूक या वाहन व अन्य चबाए जाने वाले तम्बाकू व गैर तम्बाकू उत्पादों के खाने के बाद भी एक और, सार्वजनिक स्थानों व्यवस्था। वे संस्थानो। मैं पर तुरंत प्रभाव से रोक लगा। दी है आमजन द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से, कोई नाइट इन का संक्रमण फैलने की आशंका है, संक्रमण रोकने के लिए आमजन की इन आदतों पर सख्ती से प्रतिबंध लगाना बहुत जरूरी हो गया था।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इस साल कोई नहीं मनाएगा 14 February ko Valentine Day Kyunki

मां करणी का प्रथम अवतार है नागौर की बेटी इंद्र बाईसा पुरुष भेस में घूमती थी, नवरात्रा में देश भर से आते हैं श्रद्धालु

दुनिया का सबसे महंगा केक: कीमत 7 करोड़ रुपए