वीर चक्र विजेता भागकर की गौरव गाथा। कारगिल युद्ध 12 जून 1999

वीर चक्र विजेता भागकर की गौरव गाथा, करगिल युद्ध में सबसे पहले 12 जून 1999 की रात को जीती थी तोलोलिंग पहाड़ी।
सेना का प्रक्रम देख तोलोलिंग से भाग छुटे थे पाकिस्तानी। करगिल युद्ध में 1999 में तोलोलिंग पहाड़ी को दुश्मनों से मुक्त करवाते समय शहीद हुए। वो रावण के वीर चक्र विजेता सूबेदार भंवरलाल भाकर के 21 वें शहादत दिवस पर उनके ग्राम रेवड़ी में, शहीद स्मारक पर श्रद्धांजलि सभा होगी भागकर दो राजपूताना रायफल्स में सूबेदार थे। उन्होंने 12 जून 1999 की रात तोलोलिंग पर दुश्मनो के बंकरों को नष्ट कर अद्भुत शौर्य दिखाया था।
तोलोलिंग की पहाड़ी पर तिरंगा फहराने वाले शहीद भंवरलाल भागकर के साथी झुंझुनूँ हॉल जयपुर निवासी नायक दिगेंद्र, कुमार ने बताया कि हमारी टुकड़ी में 10 जवान शामिल थे। 1999 में, कारगिल की पहाड़ियों पर खड़े लड़े गये। युद्ध मे पाक सेना पहाड़ी चोटी से तथा भारत की सेना जमीन से युद्ध कर रही थी, भारत की तरफ से लगभग 80 सैनिक फॉलो लिंक पहाड़ी मुक्त करवाने के प्रयास में वीर गति को प्राप्त हो चुके थे।
ऐसे में तत्कालीन जनरल ने पहाड़ी को जीतने का टास्क टू राजपूताना राइफल्स को दिया बटालियन ने, कर्…

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टेडियम।

जयपुर में बनेगा दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टेडियम, आरसीए ने बोर्ड को लिखा पत्र।

75 हजार दर्शक क्षमता होगी, 350 करोड़ रुपये में होगा पहले फेज का निर्माण।

दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टेडियम। वैभव गहलोत जब से आरसीए के अध्यक्ष बने हैं। तब से उनका एक ही लक्ष्य रहा है कि राजस्थान क्रिकेट संघ का अपना खुद का स्टेडियम हो। इनके कारण अध्यक्ष बनने के कुछ समय बाद ही इन्होंने पूर्व आईएएस जी.एस. संधू को इसका जिम्मा सौंपा और आरसीए में ही उनका ऑफिस बना दिया। सूत्रों के अनुसार माना जा रहा है कि आरसीए ने इस संबंध में बीसीसीआई को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में बीसीसीआई से 75 हजार क्षमता के स्टेडियम के लिए 100 करोड़ रुपये की ग्रांट और आरसीए का बकाया 90 करोड़ देने के लिए कहा है। नक्शा वगैरह भी इस पत्र के साथ बीसीसीआई को भेजा गया है। 24 महीने में ही 45 हजार दर्शक क्षमता के पहले फेज का निर्माण कार्य कराया जायेगा।




चौंप में 41.47 हेक्टर जमीन लगभग फाइनल।


स्टेडियम के लिए चौंप गांव में 41.47 हेक्टेयर भूमि लगभग फाइनल कर ली गई है। प्रॉजेक्ट के डिजाइन बनाने का काम भी मेहता एंड एलएलपी को दिया जा चुका है। लगभग 350 करोड़ रुपये के खर्च से बनाया जायेगा। आरसीए ने बीसीसीआई को पत्र भेजा कि 120 दिन में स्टेडियम का काम शुरु कर दिया जाये, और 24 महीने में स्टेडियम का पहला फेज पूरा कर लिया जायेगा।
विश्व में दो स्टेडियम एक लाख क्षमता के : विश्व के दो स्टेडियम में एक लाख से एक लाख से ज्यादा क्षमता के हैं। सूरत के मोटरों की क्षमता 1.10 लाख है जबकि ऑस्ट्रेलिया, के, मेलबर्न क्रिकेट स्टेडियम, की क्षमता 1.02 लाख हैं। तीसरे नंबर पर आरसीए का स्टेडियम होगा।




कहाँ से आएँगे साढ़े 300 करोड़?

  1. 90 करोड़ बीसीसीआई पर बकाया।
  2. सौ करोड़ वोट बोर्ड। देती है ग्रांट।
  3. सौ करोड़ रूपये लोन लेगा।
  4. 60 करोड़ रूपये स्टेडियम के, कॉरपोरेट बॉक्स बेचकर इकट्ठा होंगे।

निम्न फैसिलिटीज होंगी।


  • अंतरराष्ट्रीय स्तर का मेन ग्राउंड।
  • द्रोह दो। प्रैक्टिस ग्राउंड। जिसमें रणजी मैच भी हो सके।
  • वर्ल्ड क्लास क्रिकेट एकेडमी।
  • क्लब हाउस।
दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टेडियम।


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इस साल कोई नहीं मनाएगा 14 February ko Valentine Day Kyunki

मां करणी का प्रथम अवतार है नागौर की बेटी इंद्र बाईसा पुरुष भेस में घूमती थी, नवरात्रा में देश भर से आते हैं श्रद्धालु

दुनिया का सबसे महंगा केक: कीमत 7 करोड़ रुपए