सोमवार, 28 सितंबर 2020

self value😎😎😎


खुद की कीमत (सेल्फ वैल्यू) 
दुनिया में हर चीज की कीमत होती हैं , यह बात सब को पता है।  हर चीज की कीमत भी तय की जा सकती हैं , कीमत बदली भी  जा सकती  हैं और अपने अनुसार कीमत रखी भी। जा सकती हैं। एक व्यक्ति खुद  तो  दूसरों के लिए कीमत रख सकता है लेकिन क्या उसको खुद की कीमत का पता होता है ,तो आज एक कहानी के माध्यम से पता करते हैं खुद की कीमत क्या होती हैं।
                          एक लड़का होता है जो अपने पापा के पास आकर उनसे कहता है कि पापा मुझे आपसे कुछ पूछना चाहता हूं ,आप मेरे एक सवाल का जवाब दीजिए । उस लड़के के पिता ने कहा कि पूछो , लड़का अपने पिता से पूछता है कि "पापा क्या आप मेरी वैल्यू मुझे बता सकते हैं?"  लड़के के पिता कुछ समय के लिए चुप रहे वह कुछ बोले नहीं । कुछ समय बाद लड़के के पिता ने  उसे बुलाया और उसे एक पत्थर दिया और कहा कि जाओ इसे तुम्हे बेचना है ।  जब भी कोई तुमसे ये पत्थर की कीमत पूछे तो तुम चुप रहना और अपनी दो उंगलियां खड़ी कर देना है। लड़का पत्थर लेकर बाज़ार में गया उसे बेचने के लिए और वहां वह काफी समय तक खड़ा रहा और कोई नहीं आया  उस पत्थर को खरीदने । आखिर में एक बुढिया औरत आती हैं उस लड़के के पास और उससे उस पत्थर की कीमत पूछती हैं । लड़का अपने पिता के कहे अनुसार कुछ नहीं बोलता है और सिर्फ अपनी दो उंगलियां खड़ी कर देता हैं । बुढिया औरत उस लड़के को बोलती हैं कि इस पत्थर के मै तुम्हे 200 रुपए देती हूं और तुम मुझे ये पत्थर दे दो। लड़का दौड़ता हुआ अपने पिता के पास आता है और अपने पिता से कहता है कि बाजार में एक बुढिया थी जो इस पत्थर के 200 रुपए दें रही थी । एक बार फिर लड़के के पिता ने उसे उस पत्थर को बेचने को बोला और कहा कि अबकी बार तुम इस पत्थर को लेकर  म्यूजियम में जाओ । लड़का पत्थर लेकर म्यूजियम में जाता है और वह पर वह खड़ा हो जाता है उस पत्थर को हाथ में लेकर  कुछ समय बाद  उस म्यूजियम के मालिक की उस लड़के पर नज़र पड़ती हैं और वह उस लड़के के पास जाता है । वह उस लड़के से उसके हाथ में जो पत्थर होता है उसकी कीमत उससे पूछता है ।लड़का पहले कि तरह कुछ नहीं बोलता है और उस म्यूजियम के मालिक के कीमत पूछे जाने पर वह अपनी दो उंगलियां खड़ी कर देता है , म्यूजियम का मालिक दो उंगलियां देखकर संकोच में पड़ जाता है और वह उस लड़के को उस पत्थर की कीमत 20000 हजार रूपए देने के लिए राजी हो जाता है । लड़का दौड़ता हुआ फिर  से अपने पिता के पास आकर बोलता है कि म्यूजियम में उस पत्थर के उसे 20000 हजार रुपए मिल रहे थे । लड़के के पिता ने उससे कहा कि अब मैं तुम्हे आखिरी जगह भेज रहा हूं इस पत्थर को बेचने के लिए  इस बार तुम्हे ये पत्थर लेकर कीमती पत्थरों की दुकान पर जाना हैं । लड़का अपने पिता के कहे अनुसार कीमती पत्थरों की दुकान पर  गया उस पत्थर को लेकर और वहां वह पत्थर लेकर खड़ा हो गया बेचने के लिए ।काफी समय के बाद एक बूढ़ा आदमी आता है  दुकान के अंदर से और उसकी नजर उस लड़के पर पड़ती है और वह उसके पास  जाता है और उसके हाथ में  वह पत्थर देखकर बोलता की  इस पत्थर की मुझे बहुत वर्षों से तलाश थी  ये पत्थर तुम्हारे पास कहां से आया  । वह बूढ़ा आदमी उस लड़के से उस पत्थर की कीमत पूछता है और लड़का कुछ नहीं बोलता है और सिर्फ अपनी दो उंगलियां खड़ी कर देता हैं उसके सामने । वह बूढ़ा आदमी भी संकोच में पड़ जाता ।  वह बूढ़ा आदमी उस लडके को बोलता है कि "मैं तुम्हे इस पत्थर के 200000 लाख रूपए देता हूं तुम मुझे ये पत्थर दे दो । लड़का फिर से अपने पिता के पास आता है और बोलता है कि  कीमती पत्थरों की दुकान पर मुझे एक बूढ़ा आदमी मिला और वह इस पत्थर के 200000 लाख रुपए देने को तैयार था । लड़के के पिता ने लड़के से  कहा कि   अब मैं तुम्हारे सवाल का जवाब देता हूं  । लड़के के पिता कहते हैं कि जब तुम पहली बार इस पत्थर को लेकर बाजार में गए तब तुम्हे कोई इसकी कीमत 200 रुपए देने को तैयार था । लेकिन जब तुम  इस पत्थर को लेकर म्यूजियम में गए तब इस पत्थर के तुम्हे कोई 20000  हजार रूपए दे रहा था और आखिर में जब तुम इस पत्थर को लेकर कीमती पत्थरों की दुकान पर गए  तो तुम्हे इसकी कीमत 200000  लाख रूपए मिल रही थी। लड़के के पिता उस लड़के से कहते हैं कि  तुमने पत्थर को तीन जगह रखा तो उसकी कीमत अलग - अलग  हो गई । इसी प्रकार तुम्हारी भी यह कीमत हैं कि तुम अपने आप को जीवन  कहां रखते  हो  वहीं तुम्हारी  कीमत होगी  ।  
        
#  जीवन में तुम अपने आप को किन लोगो के साथ में रखते हो कहां रखते हो  वहीं तुम्हारी कीमत होगी । 


शुक्रवार, 25 सितंबर 2020

Be enthusiastic about your work😊😊


इंसान  का नाम  बड़ा होता है उसके काम की वजह से वरना  एक ही नाम के तो बहुत इंसान होते हैं । आज एक कहानी बताऊंगा जो आपको अपने काम  के लिए आपको कभी निराश नहीं होने देगी । कहानी एक ऐसी चीज है जो हमें जरूरत के समय या किसी मुश्किल के समय या जब हम अपने काम के प्रति निराश हो जाए  तब हमें याद आती है ।उस कहानी का मेसेज / मोरल हमारे दिमाग में हमेशा रहता है। कहानी को भूला नहीं जा सकता क्योंकि वह जीवन के किसी ने किसी हिस्से या समस्या या मुश्किल के दौर से जुड़ी रहती हैं। यह कहानी एक लड़के की जो अपने काम के प्रति बहुत ही उत्साही होता है । जो व्यक्ति अपने काम को लेकर उत्साही होता है उसकी जरूरत सबको होती हैं । एक बार वह लड़का एक टेलीफोन बूथ पर गया । जहां पास में कैश काउंटर होता और दुकानदार बैठा होता है । लड़का नंबर मिलाता  है । पास ही में एक दुकान का मालिक होता है वह उसको देख रहा होता है  उसको ऑब्जर्व करता है , उसकी बाते सुन रहा होता है । लड़का "हैलो" बोलता है सामने कॉल पर एक लेडी होती हैं  और उसका भी ज़वाब आता है , लड़का उससे कहता है कि क्या आप मुझे नौकरी दे सकती हो आपके बगीचे की कटाई  की , लड़का बोलता है मै बहुत ही अच्छा लॉन कटिंग करता हूं मुझे इसका अनुभव भी है तो आप मुझे नौकरी पर रख लो । वह लेडी उस मना कर देती है और बोलती है कि हमारे पास पहले से ही एक लड़का है जो यह काम काफी अच्छे तरीके से कर रहा है । लड़का कहता है कि मेरा काम उस लड़के  के काम से काफी अच्छा होगा , अभी आप उस लड़के को जितना वेतन दे रहे हो मुझे उसका आधा ही देना । लेडी बोली कि वो लड़का जो काम करता है उससे हम संतुष्ट हैं हमें कोई और लड़का नहीं चाहिए ।लड़का एक महीने फ्री में काम करने का बोलता है महिला उसे फिर से मना कर देती है । वह लड़का अपने काम में फिर से नई वैल्यू जोड़ता है और बोलता है कि मै लॉन की कटिंग के साथ आपके घर की भी सफाई  कर दूंगा और महिला बोलती हैं कि "नो थैंक्स " हमें कोई जरूरत नहीं है । रिजेक्ट होने के बाद लड़का हंसते हुए फोन रख देता हैं और जो टेलीफोन बूथ  मालिक होता है वह  उस लड़के से कहता है कि  मुझे आपका ऐटिट्यूड बहुत  पसंद आया । आप एक के बाद एक चीजें जोड़ते जा रहे थे कि मै आपके लिए ये कर दूंगा ,वो कर दूंगा । आप काम के लिए उत्साही हो मुझे ऐसे ही व्यक्ति की जरूरत है अपनी दुकान पर आप मेरे यहां जॉब कर लो मै आपको उस महिला से अच्छी वेतन दूंगा । लड़का बोलता "नो थैंक्स" और लड़का दुकानदार को मना कर देता है। दुकानदार उस लड़के से कहता है कि आप वहां तो जिद कर रहे थे और आप था मना कर रहे जबकि मै ज्यादा पैसे  दे रहा हूं फिर भी । लड़के ने कहा जो कुछ भी दुकानदार भी सुन कर कुछ समय के लिए चुप हो गया । लड़के ने दुकानदार से कहा कि मै उसी महिला के वहां काम करता हूं जो यह बोल रही थी कि हमारे पास अच्छा काम करने वाला लड़का है वो लड़का मैं ही हूं । मैं अनजान नंबर से फोन करके अपनी परफॉर्मेंस चेक कर रहा  था । मैं खुद को परख रहा था कि क्या लोग मेरे काम से संतुष्ट हैं या नहीं , क्या वह दूसरे लड़के की तलाश  में हैं या मुझे छोड़ना ही नहीं चाहते । उस महिला ने मुझे मना करके मेरे काम की और वैल्यू बढ़ा दी ।     

                                      जो लोग अपने काम के प्रति उत्साही होंगे दुनिया उसे कभी नहीं छोड़ेगी, क्योंकि दुनिया को लोगो का पता है कि  ऐसे लोग काम जो काम के प्रति उत्साही होते  वो कम ही मिलते हैं।

मंगलवार, 22 सितंबर 2020

# Be happy😊 always yourself . Believe in yourself 😊

खुद से मिल रही हूं। 

बड़े दिनों से खुद से ही 
बाते कर रही हूं मै ,
खुद में ही गुम हूं और 
खुद से मिल रही हूं मै।
    ये मै ही तो हूं जो
    मेरी हर जीत पर अपनी 
    पीठ थपथपापाया करती हूं,
    हर गम में भी अपने साथ 
    साथ चल रही हूं मै,
    खुद में गुम हूं और 
    खुद से ही मिल रही हूं मै।
कोई है जो मुझे मेरी 
हर कमी बताती हैं,
कोने कोने से मुझे 
हीरा बनाती हैं ,
मैं अपना जौहरी खुद हूं, 
खुद को तराश रही हूं,
खुद में ही गुम हूं और 
खुद से ही मिल रही हूं मै।
      मैं ताकत हूं मेरी ,
      हूं मैं ही अपना सहारा भी,
      मैं खुद ही में सागर हूं और,
      अपना किनारा भी हूं मैं ,
      हवाओं पर चल कर ,
      लहर बन रही हूं मै ,
      खुद में ही गुम हूं  और 
      खुद से ही मिल रही हूं मैं।
शून्य से निकलकर आज 
सम्पूर्ण बन रही हूं मैं , 
खुद में ही गुम हूं और,
खुद से ही मिल रही हूं मैं।   # JP

रविवार, 20 सितंबर 2020

Value of time 🕑🕑

वक्त कहता है मै  फिर नहीं आऊंगा ,
  मुझे खुद नहीं पता कि मैं  तुझे,
   हसाऊंगा या रुलाऊंगा ,
जीना है तो इस पल को जी ले ,
क्योंकि मै किसी भी हाल में इस
पल को अगले पल तक रोक न पाऊंगा।
          मैं चलता रहूंगा , चलता ही रहूंगा,
         जिसने भी मेरी कीमत समझी मै 
         उसका हो जाऊंगा , उसका हो जाऊंगा,
         मैं वक्त हूं चलता रहूंगा , चलता ही रहूंगा।
 जिसने मेरा हाथ पकड़ लिया , जिसने मुझे समझ 
 लिया ,   मेरे साथ चलना सीख लिया जिसने ,
 उसे  उसकी मंजिल तक पहुंचा दूंगा मै,
मैं वक्त हूं चलता रहूंगा, चलता ही रहूंगा।
           मैं वक्त हूं मैने कभी  किसी का इंतजार नहीं किया,
           तू क्यों हर किसी का इंतजार करता है तू मेरे साथ
           चल  एक दिन लोग तेरा इंतजार करेंगे , तू  मेरे साथ             चल  एक दिन जब तुझे पता चलेगा तू कहां  था ,
           और आज तू कहां हैं और कल कहां होगा यह मै
           बताऊंगा तुझे एक दिन जब तू मेरे साथ चलेगा ,
            मैं वक्त हूं चलता रहूंगा और चलता ही रहूंगा।
भर ले अपने सपनों की उड़ान आज ही मेरे साथ,
 तू कहीं मेरा इंतजार मत कर मै हर पल बिता जा 
 रहा हूं , आज चला गया हूं तो कल फिर नहीं आऊंगा,
 मैं वक्त हूं दोस्त चलता रहूंगा और चलता ही रहूंगा। 

self value😎😎😎

खुद की कीमत (सेल्फ वैल्यू)  दुनिया में हर चीज की कीमत होती हैं , यह बात सब को पता है।  हर चीज की कीमत भी तय की जा सकती हैं , कीमत बदली भी  ज...